RCP सिंह का JDU से इस्तीफा: कहा- नीतीश 7 जन्म में नहीं बनेंगे PM, पार्टी ने संपत्ति को लेकर जवाब मांगा था

0
8
Advertisement


पटना/नालंदा2 घंटे पहले

पूर्व केंद्रीय मंत्री RCP सिंह ने JDU की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। नालंदा के अपने पैतृक गांव मुस्तफापुर में उन्होंने मीडिया से बात करते हुए यह ऐलान किया है। इससे पहले उन्होंने एक सादे कागज पर एक लाइन में अपनी बात लिखकर JDU के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा को अपना इस्तीफा भेजा। बता दें उनसे खरीदी गई संपत्तियों को लेकर JDU ने जवाब मांगा था। वो पहले से ही पार्टी से नाराज चल रहे थे। शनिवार को सामने आई शोकॉज की खबर ने आग में घी का काम किया है।

शनिवार देर शाम मुस्तफापुर में उन्होंने पार्टी नेतृत्व के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली है। कहा कि JDU डूबता हुआ जहाज है। इसमें अब बचा क्या है? मैंने अपने सहयोगियों से कह दिया है कि जहां काम कर सकें, वहां चले जाएं। उन्होंने CM नीतीश कुमार को टारगेट करते हुए यह भी कहा कि वो सात जन्मों तक प्रधानमंत्री नहीं बन सकते।

उन्होंने कहा कि हमें कोई लेटर नहीं मिला। मैं इस पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष रहा हूं। एक बार पूछना चाहिए था। दो लोगों ने लेटर लिख दिया तो अब इतना हंगामा कर रहे हैं। मैं कैसे ऐसे लोगों के साथ रहूंगा। इसी पर मैंने निर्णय लिया है कि अब बहुत हो गया। मैं अब सीधे-सीधे पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे रहा हूं।

उन्होंने आगे कहा कि मैं अपने सभी सहयोगियों से कहूंगा कि जहां काम होना हो वहां चलो। अब मेरे जो सहयोगी हैं, वो एक-एक कर इस जहाज से उतर जाएंगे और यह डूब जाएगा।

अब कहां जाएंगे पर कहा – बात करेंगे

आगे उनसे जब पूछा गया कि अब क्या करेंगे, BJP के साथ जाएंगे या अपनी पार्टी बनाएंगे? इसके जवाब में उन्होंने कहा कि अपने सहयोगियों से बात करेंगे। अपने पास ऑप्शन सब खुला हुआ है। फिर उनसे पूछा गया कि नीतीश कुमार प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं क्या? तब उन्होंने कहा कि वो सात जन्मों तक प्रधानमंत्री नहीं बन सकते।

इस तरह अपना इस्तीफा लिखा RCP सिंह ने।

जमीन खरीद के आरोपों पर क्या बोले

RCP सिंह ने कहा कि रुपए हों तो निवेश करने के लिए सभी को संपत्ति खरीदने का अधिकार है। मेरे पिता सरकारी नौकरी में थे। उन्होंने अपनी कमाई से जो जमीनें खरीदी, वो अपनी पोतियों (मेरी बेटियों को) के नाम कर दी हैं। मेरी बेटियां साल 2010 से टैक्स रिटर्न फाइल कर रही हैं। मेरी पत्नी गांव में रहती है और खेती कराती हैं। उनके नाम पर जमीनें हैं। सब कुछ डॉक्यूमेंटेड है। जांच करा लें।

अजय आलोक बोले – बिहार में राजनीतिक बम फूटनेवाला है

जदयू के ही पूर्व नेता अजय आलोक इस पूरे मामले में RCP सिंह के पक्ष में उतर आए हैं। वो उनके नजदीकी माने जाते हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा है कि RCP सिंह ने इस्तीफा दे दिया लेकिन अब आनेवाले दिनों में जब सबूत के साथ खुलासे होंगे तब क्या होगा? बिहार में राजनीतिक बम फूटने वाला है।

इससे पहले उन्होंने एक और पोस्ट में लिखा था कि अब रामचंद्र पर भी निराधार आरोप। वैसे जमीन खरीदना मना है क्या बिहार में? आय का स्रोत सही होना चाहिए इसलिए आरसीपी सिंह ने साफ-साफ कह दिया कि कोई गड़बड़ नहीं है। वैसे राजनीतिक दल कब से IT, ED या EOW बन गए जो जमीन खरीद पर नोटिस भेजेंगे? खेल कुछ और है, ध्यान भटकाना है।

RCP सिंह के नजदीकी अजय आलोक के ट्वीट।

RCP सिंह के नजदीकी अजय आलोक के ट्वीट।

क्या था मामला

JDU की कार्रवाई का आधार उनकी और उनके घर वालों की हाल की संपत्ति है। दिलचस्प यह है कि इस संपत्ति का ब्योरा JDU के ही नेताओं ने जुटाया है। इसके अनुसार, आरसीपी और उनके घर वालों ने 2013 से अब तक नालंदा जिले के सिर्फ दो प्रखंड अस्थावां और इस्लामपुर में करीब 40 बीघा जमीन खरीदी है। कई और जिलों में भी उनकी संपत्ति होने की बात भी कही गई है।

पार्टी ने इसे भ्रष्टाचार के मोर्चे पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति के खिलाफ माना है। अपने ही पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष के खिलाफ जांच करने और उनसे भ्रष्टाचार संबंधी सवाल-जवाब करने वाली JDU हालिया वर्षों में संभवत: देश की पहली पार्टी है।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने RCP को पत्र भी लिखा है। इसमें बताया गया है कि नालंदा जिले में जदयू के दो साथियों की सबूत के साथ शिकायत मिली है। इसमें बताया गया है कि अब तक उपलब्ध जानकारी के अनुसार आपके और आपके परिवार के नाम से साल 2013 से 2022 तक अकूत संपत्ति रजिस्टर्ड कराई गई है। इसमें कई प्रकार की अनियमितता दिखाई देती हैं।

बता दें खरीदी गई ज्यादातर जमीनें RCP सिंह की पत्नी (गिरजा सिंह) और दोनों बेटियों (लिपि सिंह, लता सिंह) के नाम पर है। एक आरोप यह भी है कि RCP ने खासकर 2016 के अपने चुनावी हलफनामे में इसका जिक्र नहीं किया है।

RCP परिवार ने 9 साल में खरीदे 58 प्लॉट:JDU की ही जांच में खुलासा, प्रदेश अध्यक्ष ने लिखा-अकूत संपत्ति में अनियमितता

JDU के शोकॉज का जवाब नहीं देंगे आरसीपी:करीबी बोले – पार्टी को यह पूछने का हक नहीं; बेटियां 2010 से दे रही आयकर

आरसीपी सिंह पर आरोप लगाने वाले JDU नेता बोले: कई बार मुख्यमंत्री से शिकायत करने की कोशिश की, लोगों ने मिलने नहीं दिया



Source link

Advertisement