CWG गोल्ड मेडलिस्ट अचिंता की कहानी: पेट पालने के लिए खुद करते थे मजदूरी, बड़ा भाई 16-16 घंटे लगातार काम करता था

0
20
Advertisement


  • Hindi News
  • Sports
  • Worked In The Fields For One Time Meal, Elder Brother And Mother Did Wages For Achinta’s Diet

बर्मिंघम3 मिनट पहलेलेखक: राजकिशोर

  • ट्रेनिंग के चलते पिछले 3 साल से घर नहीं गए हैं अचिंता

बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में रविवार रात देश को तीसरा गोल्ड दिलाने वाले वेटलिफ्टर अचिंता शेउली (73 KG) ने अपनी सफलता का श्रेय बड़े भाई आलोक, मां पूर्णिमा और कोच को दिया है। हुगली के रहने वाले अचिंता के सपने पूरे करने के लिए उनके बड़े भाई आलोक ने अपने सपने बीच में ही छोड़ दिए।

अचिंता ने भाई को ही देखकर 2011 में वेटलिफ्टिंग शुरू की थी, लेकिन 2013 में पिता का देहांत हो गया। तंगी इतनी थी कि पिता के अंतिम संस्कार के लिए भी पैसे नहीं थे। मां के लिए दोनों बेटों की डाइट का इंतजाम करना मुश्किल होने लगा। तब अचिंता के बड़े भाई ने अपने करियर का बलिदान देने का फैसला किया। आलोक ने दैनिक भास्कर से खास बातचीत में अपने संघर्ष की कहानी बताई।

अचिंता के बचपन का फोटो (हाथ में गुब्बारा लिए हुए) मां-पापा और भाई के साथ।

अंडे और एक किलो मांस-चावल के लिए खेतों में काम किया
आलोक बताते हैं, ‘पिता के गुजर जाने के बाद मैने वेटलिफ्टिंग छोड़ दी ताकि अचिंता अपना करियर जारी रख सकें। हम अपनी डाइट में एक-एक अंडा और एक किलो मीट ले सकें इसके लिए खेतों में मजदूरी करते थे।’

इंडिया खेलने के बाद मां और भाई के साथ अचिंता (दाएं)।

इंडिया खेलने के बाद मां और भाई के साथ अचिंता (दाएं)।

मां भी मजदूरी करती थी
आलोक ने बताया, ‘2014 में अचिंता का पुणे के आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टिट्यूट में चयन हो गया। फिर उन्हें नेशनल कैंप के लिए चुन लिया गया। इस खेल में डाइट खर्च ज्यादा है। ऐसे में DA के बाद भी उसकी डाइट पूरी नहीं होती थी। ऐसे में उसने मुझसे पैसे मांगे। फिर मैंने ज्यादा काम शुरू किया। मैं सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक लोडिंग का काम करता था। फिर शाम को 5 घंटे की पार्ट टाइम जॉब करता था और रात में एग्जाम की तैयारी भी।

मां को भी खेतों में मजदूरी करनी पड़ी। हमने पैसे बचाकर अचिंता को भेजे, ताकि वह डाइट पर ध्यान दे। 2018 में खेलो इंडिया में सिलेक्शन होने के बाद अचिंता को पॉकेट मनी मिलने लगी। इसके बाद उनके डाइट खर्च का बोझ कम हो गया। अब वे केंद्र सरकार के टॉप्स योजना में भी शामिल हैं।’

73 KG वेट कैटेगरी में हिस्सा लेते हैं अचिंता।

73 KG वेट कैटेगरी में हिस्सा लेते हैं अचिंता।

कुल 313 KG वजन उठाया है अचिंता ने। स्नैच में 143 और क्लीन एंड जर्क में 170 KG।

कुल 313 KG वजन उठाया है अचिंता ने। स्नैच में 143 और क्लीन एंड जर्क में 170 KG।

पश्चिम बंगाल सरकार से नहीं मिली हेल्प
आलोक ने कहा कि अचिंता ने बंगाल से नेशनल स्तर पर और देश के लिए इंटरनेशनल स्तर पर कई टूर्नामेंट में मेडल जीते। देश के अन्य राज्यों में नेशनल और इंटरनेशनल स्तर पर मेडल जीतने वाले खिलाड़ियों को राज्य सरकार से मदद मिलती है, लेकिन अचिंता को बंगाल सरकार से आज तक कोई मदद नहीं मिली।

सिल्वर मेडलिस्ट से 10 KG वजन ज्यादा उठाया है अचिंता ने।

सिल्वर मेडलिस्ट से 10 KG वजन ज्यादा उठाया है अचिंता ने।



Source link

Advertisement