15 महीने के बेटे को बचाने बाघ से लड़ी मां: बांधवगढ़ में महिला के फेफड़े तक घुसे बाघ के नाखून, 20 मिनट लड़ी; बच्चे को जबड़े छुड़ा लिया

0
25


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • The Tiger’s Nails Entered The Woman’s Lungs, Fought For 20 Minutes, Convinced The Child Only After Releasing The Jaws

उमरिया4 मिनट पहले

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में एक मां अपने 15 महीने के बच्चे को बचाने के लिए बाघ से लड़ गई। बाघ के नाखून महिला के फेफड़े तक घुस गए, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी। वह 20 मिनट तक लड़ती रही और बाघ के जबड़े से बेटे को छुड़ा लिया। महिला की हालत गंभीर होने के चलते उसे जबलपुर रेफर किया गया है। घटना रोहनिया गांव की है।

जानकारी के अनुसार मानपुर बफर जोन से लगी ज्वालामुखी बस्ती में रहने वाले भोला चौधरी की पत्नी अर्चना रविवार सुबह लगभग 10 बजे अपने बेटे राजवीर को नजदीक की बाड़ी में शौच के लिए ले गई थी। इसी दौरान झाड़ियों में छिपा बाघ लकड़ी-कांटे की फेंसिंग को फांदकर अंदर आया और बच्चे को अपने जबड़े में दबा लिया।

भोला ने बताया कि 15 महीने के बेटे राजवीर को पत्नी सुबह बाड़े में लेकर गई थी। तभी बाघ ने उसे जबड़े में दबा लिया।

बेटे को बचाने अर्चना बाघ से भिड़ गई। इस दौरान बाघ के नाखून उसके फेफड़े तक घुस गए, लेकिन वो लड़ती रही। करीब 20 मिनट तक हुए इस संघर्ष का शोर सुन बस्ती के लोग लाठियां लेकर पहुंचे तो बाघ जंगल की ओर भाग गया। दोनों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल भेजा गया।

20 मिनट तक हुए इस संघर्ष का शोर सुन बस्ती के लोग लाठियां लेकर पहुंचे तो बाघ जंगल की ओर भाग गया।

20 मिनट तक हुए इस संघर्ष का शोर सुन बस्ती के लोग लाठियां लेकर पहुंचे तो बाघ जंगल की ओर भाग गया।

जिला अस्पताल में जांच के बाद महिला की गर्दन टूटने की बात सामने आई। हालत गंभीर होने पर उसे जबलपुर रेफर कर दिया गया। सिविल सर्जन डॉ. एलएन रूहेला ने बताया कि महिला की पीठ पर भी नाखून के गहरे घाव थे। टांके लगाने के बाद भी खून नहीं रुक रहा था। बच्चे के सिर में चोट आई है, लेकिन वह खतरे से बाहर है।

झाड़ियों में छिपा बाघ लकड़ी-कांटे की फेंसिंग को फांदकर अंदर आया और बच्चे को अपने जबड़े में दबा लिया।

झाड़ियों में छिपा बाघ लकड़ी-कांटे की फेंसिंग को फांदकर अंदर आया और बच्चे को अपने जबड़े में दबा लिया।

वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी मौके पर पहुंचे और मां-बेटे को अस्पताल में भर्ती करवाया गया‌। बच्चे के सिर पर घाव हुआ है।

वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारी मौके पर पहुंचे और मां-बेटे को अस्पताल में भर्ती करवाया गया‌। बच्चे के सिर पर घाव हुआ है।

अर्चना की हालत गंभीर होने पर उसे जबलपुर रैफर कर दिया गया। जांच में पता चला कि अर्चना के फेफड़े में भी घाव हुआ है।

अर्चना की हालत गंभीर होने पर उसे जबलपुर रैफर कर दिया गया। जांच में पता चला कि अर्चना के फेफड़े में भी घाव हुआ है।



Source link