12 जुलाई से वक्री शनि का मकर राशि में प्रवेश, जानिए कैसे शांत करें शनि की पीड़ा?

0
3
Advertisement


Astrology

lekhaka-Gajendra sharma

|

Google Oneindia News


नई
दिल्ली,
08
जुलाई।

4
जून
से
कुंभ
राशि
में
वक्री
हुआ
शनि
12
जुलाई
2022
को
दोपहर
2.52
बजे
पिछली
राशि
मकर
में
पुन:
प्रवेश
करेगा।
शनि
का
गोचर
मकर
राशि
में
होने
के
कारण
पुन:
साढ़ेसाती
का
गणित
बदल
जाएगा।
अब
पुन:
धनु,
मकर
और
कुंभ
राशि
साढ़ेसाती
के
प्रभाव
में
रहेंगी।

23
अक्टूबर
2022
को
शनि
मकर
राशि
में
ही
मार्गी
होगा
और
गोचर
करते
हुए
17
जनवरी
2023
को
पुन:
कुंभ
राशि
में
प्रवेश
करेगा।
इस
प्रकार
12
जुलाई
2022
से
17
जनवरी
2023
तक
शनि
का
मकर
राशि
में
गोचर
चलेगा।
इसके
अनुसार
कुल
190
दिन
शनि
पुन:
मकर
राशि
में
गोचर
करेगा।
इन
190
दिनों
तक
धनु
राशि
पुन:
साढ़ेसाती
के
प्रभाव
में
आएगी
और
मीन
राशि
इस
दौरान
साढ़ेसाती
से
मुक्त
हो
जाएगी।
लघु
कल्याणी
ढैया
भी
पुन:
190
दिनों
के
लिए
मिथुन
और
तुला
राशि
पर
लग
जाएगा।


ऐसे
होगा
शनि
का
गोचर

  • 12
    जुलाई
    2022
    को
    वक्री
    शनि
    मकर
    में
  • 23
    अक्टूबर
    2022
    को
    शनि
    मार्गी
    मकर
    में
  • 17
    जनवरी
    2023
    को
    शनि
    पुन:
    कुंभ
    में

देवशयनी एकादशी 10 जुलाई को, जानिए कथा और पूजा का समयदेवशयनी
एकादशी
10
जुलाई
को,
जानिए
कथा
और
पूजा
का
समय


साढ़ेसाती

12
जुलाई
से
17
जनवरी
:
धनु,
मकर,
कुंभ


लघु
कल्याणी
ढैया

12
जुलाई
से
17
जनवरी
:
मिथुन,
तुला


कैसे
शांत
करें
शनि
की
पीड़ा

190
दिनों
की
अवधि
के
दौरान
शनि
की
पीड़ा
शांत
करने
के
लिए
प्रत्येक
शनिवार
को
शनि
देव
और
हनुमानजी
के
दर्शन
करें।
प्रत्येक
शनिवार
को
तिल
के
तेल
में
अपनी
छाया
देखकर
तेल
शनि
देव
को
अर्पित
करें।
दशरथकृत
शनि
स्तोत्र
का
पाठ
करें।
शनि
देव
को
नीले
पुष्प
अर्पित
कर
तिल
या
उड़द
की
दाल
से
बनी
मिठाई
का
नैवेद्य
अर्पित
करें।
इस
दौरान
सत्कर्म
करें।
झूठ

बोलें,
पाप
कर्मो
से
बचें।

English summary

Retrograde Saturn enters Capricorn from 12th July, Read Details here.

Story first published: Friday, July 8, 2022, 7:00 [IST]



Source link

Advertisement