हनुमान चालीसा पढ़ने पर स्कूल से नाम काटा: छात्र बोले- कुरान पढ़ने को कहा तो चालीसा पढ़ी, अयोध्या के मुस्लिम कॉलेज के हैं दोनों छात्र

0
16
Advertisement



अयोध्या28 मिनट पहले

अयोध्या में एक मुस्लिम इंटर कॉलेज में 11वीं कक्षा में पढ़ने वाले दो हिंदू छात्रों का नाम काट दिया गया है। छात्र का कहना है कि क्लास में हनुमान चालीसा पढ़ने पर उसे स्कूल से निकाला गया है। जबकि स्कूल मैनेजमेंट ने बच्चों पर धार्मिक उन्माद फैलाने का आरोप लगाया है।

हिंदू संगठनों ने इसे कॉलेज की मनमानी बताते हुए नाराजगी जताई है। विश्व हिंदू परिषद ने शासन-प्रशासन से मामले की जांच कर कॉलेज की मान्यता समाप्त करने की मांग की है। मामला जिले के थाना रौनाही क्षेत्र के सोहावल का है। फैज-ए-आम मुस्लिम इंटर कॉलेज में नर्सरी से कक्षा 12 तक पढ़ाई होती है।

  • खबर में आगे बढ़ने से पहले पोल में हिस्सा ले सकते हैं…

छात्र बोला- रहीम के दोहे की जगह कुरान पढ़ने को कहा
यहां फैज-ए-आम मुस्लिम इंटर कॉलेज के छात्र सौरव यादव ने बताया, “मुस्लिम छात्र के साथ बैठकर वह रहीम के दोहे पढ़ रहा था, तभी एक मुस्लिम छात्र ने आपत्ति जताई और रहीम के दोहे की जगह कुरान पढ़ने के लिए कहा।

साथ ही वह बादशाह अकबर की तारीफ करने लगा। इसके बाद मैं रामायण और हनुमान चालीसा पढ़ने लगा। इस पर मुस्लिम छात्र ने कॉलेज मैनेजमेंट से मेरी शिकायत कर दी। बिना मेरी बात सुने नाम काट दिया गया और टीसी दे दी।’’

दूसरा छात्र माधवेंद्र प्रताप सिंह भी डरा हुआ है। उसका कहना है, ‘‘मैं क्लास में साइंस का होमवर्क कर रहा था। मुझे कुछ नहीं पता। मुझे क्यों निकाला गया, इसका मेरे पास कोई जवाब नहीं है।’’

धार्मिक उन्माद फैलाने के आरोप में नाम काटा गया
कॉलेज के मैनेजर के बेटे अकरम सिद्दीकी ने बताया, “पिछले मंगलवार को कक्षा- 11 के छात्र माधवेंद्र प्रताप सिंह और सौरभ यादव क्लास के छात्रों से हिंदू-मुसलमान के मुद्दे पर बात कर रहे थे। इस पर कुछ छात्रों ने उनको रोका। मगर, दोनों नहीं माने, तो इसकी शिकायत हुई। मैनेजमेंट ने दोनों छात्रों का नाम काट कर टीसी पर लिख दिया कि धार्मिक उन्माद फैलाने के आरोप में इनका नाम काटा गया है।”

विहिप बोली- प्रिंसिपल और मैनेजर को गिरफ्तार करें
विहिप के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने कहा, “स्कूल में धार्मिक आधार पर भेदभाव का मामला बहुत गंभीर है। इस मामले में कड़ी कार्रवाई कर प्रिंसिपल और मैनेजर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया जाए। तीन दिन में कार्रवाई न होने पर इस मामले को सीएम योगी आदित्यनाथ के सामने रखा जाएगा।”

मामले में डीएम नीतीश कुमार ने कहा कि DIOS से मामले की जांच कराई जाएगी।



Source link

Advertisement