हजार फीट की ऊंचाई से देखिए, महाकाल का दरबार: 2 लाख भक्त दर्शन कर चुके; शाम को सावन सोमवार की तीसरी सवारी, CM भी आएंगे

0
13
Advertisement


आनंद निगम। उज्जैन12 मिनट पहले

सावन के तीसरे सोमवार पर महाकाल के दरबार में भक्तों की भीड़ लगी है। सुबह होने वाली भस्म आरती से लेकर भोग आरती तक 2 लाख श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं और ये कारवां बढ़ता ही जा रहा है। रात 8 बजे तक 4 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं के जुटने का अनुमान है। देश के कोने-कोने से श्रद्धालु उज्जैन आए हुए हैं। आज शाम 4 बजे महाकाल की तीसरी सवारी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल होने के लिए उज्जैन आ रहे हैं।

महाकालेश्वर मंदिर में सुबह भस्म आरती के दौरान ही 20 हजार श्रद्धालुओं ने चलायमान दर्शन व्यवस्था से दर्शन किए। भस्म आरती के बाद से ही श्रद्धालुओं की भीड़ निरंतर दर्शन के लिए बनी हुई है। प्रशासन का मानना है कि देर रात तक श्रद्धालुओं का आंकड़ा चार लाख के पार जा सकता है। भीड़ इतनी है कि महाकाल मंदिर की पार्किंग सुबह 11 बजे ही फुल हो गई। इसके बाद गाड़ियों को कार्तिक मेला ग्राउंड की पार्किंग में भेजा गया।

सामान्य दर्शनार्थियों के लिए चार धाम से लाइन
सामान्य दर्शन के लिए आने वाले दर्शनार्थी भील समाज की धर्मशाला में गाड़ी पार्क कर सकते हैं। दातार अखाड़ा की गली से चारधाम मंदिर, हरसिद्धि मंदिर चौराहा, बड़ा गणेश मंदिर के सामने से फैसिलिटी सेंटर होकर कार्तिकेय मंडपम में पहुंचकर दर्शन कर रहे हैं।

दोपहर 12 बजे तक 2 लाख श्रद्धालु महाकाल के दर्शन कर चुके थे।

गरुड़ पर सवार होकर निकलेंगे महाकाल
श्रावण मास की तीसरी सवारी आज शाम 4 बजे महाकालेश्वर मंदिर से निकलेगी। भगवान महाकाल शिव तांडव स्वरूप में गरुड़ पर सवार होकर प्रजा का हाल जानने निकलेंगे। पालकी में चंद्रमोलीश्वर और हाथी पर मनमहेश विराजित होंगे। सवारी निकलने से पहले महाकालेश्वर मंदिर स्थित सभा मंडप में विधिवत भगवान चंद्रमोलीश्वर का पूजन-अर्चन होगा। इसके बाद अपनी प्रजा के हाल जानने के लिए नगर भ्रमण पर निकलेंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज शामिल होंगे
भगवान महाकाल की तीसरी सवारी में शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उज्जैन पहुंचेंगे। मुख्यमंत्री, पत्नी साधना सिंह के साथ भगवान महाकाल पूजा करेंगे। इसके बाद नागचंद्रेश्वर मंदिर के लिए बनाए गए ब्रिज का शुभारंभ करेंगे। वे सवारी में भी शामिल होंगे।

सुबह भस्म आरती के दौरान ही 20 हजार श्रद्धालुओं ने चलाएमान दर्शन व्यवस्था से दर्शन किए।

सुबह भस्म आरती के दौरान ही 20 हजार श्रद्धालुओं ने चलाएमान दर्शन व्यवस्था से दर्शन किए।

आज रात 12 बजे खुलेंगे नागचंद्रेश्वर के पट
श्री महाकालेश्वर मंदिर के शीर्ष शिखर पर नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट सोमवार रात 12 बजे खोले जाएंगे। वर्ष में एक बार 24 घंटे के लिए नागपंचमी के दिन इस मंदिर को खोला जाता है। सोमवार की मध्यरात्रि पर विशेष पूजा-अर्चना के बाद आम श्रद्धालु इनके दर्शन लाभ ले सकेंगे। भक्तों को फूल-प्रसादी चढ़ाने की मनाही है। मंगलवार रात 12 बजे मंदिर के पट बंद कर दिए जाएंगे। कलेक्टर आशीष सिंह के अनुसार चारधाम से लाइन में लगे आम श्रद्धालुओं को 30 मिनट में नागचंद्रेश्वर के दर्शन करवाने की व्यवस्था की है। नागपंचमी पर 30 मिनट में आम श्रद्धालुओं को दर्शन…



Source link

Advertisement