सुपर स्टार सिंगर-2 के विनर मोहम्मद फैज बोले: खुद को अपना कॉम्प्टीशन मानकर आगे बढ़ा, तभी शो की ट्रॉफी मिली

0
7


मुंबई6 घंटे पहलेलेखक: उमेश कुमार उपाध्याय

  • कॉपी लिंक

सिंगिंग रियलिटी शो सुपर स्टार सिंगर-2 के विनर जोधपुर के मोहम्मद फैज बने हैं, जबकि फाइनलिस्ट में फैज के अलावा मणि, प्रांजल, बिस्वास, सैयशा गुप्ता, आर्यनंदा आर बाबू और रितुराज भी थे। मोहम्मद फैज आगे सिंगिग में करियर बनाना चाहते हैं, पर उन्हें पढ़ाई भी करनी है। खुद से खुद का कॉम्प्टीशन बताने वाले फैज ने दैनिक भास्कर से खास बातचीत की-

सिंगिंग की जर्नी शुरुआत कैसे हुई?
मुझे ऐसा कभी लगा नहीं कि सिंगिंग में करियर बनाना है। बस, ऐसे गाते-गाते लगा कि थोड़ा कॉम्प्टीशन में जाते हैं। मैंने जब फर्स्ट ऑडिशन दिया, तब वह इतना वायरल हुआ कि लोगों ने खूब पसंद किया। उसके बाद सेकंड ऑडिशन भी पसंद किया। शो में आया, तब सोचा कि हर सप्ताह को खुद से चैलेंज है और हर बार अच्छा गाना है। यही माइंडसेट रखा और अच्छा हुआ।

फैमिली बैकग्राउंड के बारे में बताइए? क्या कोई सिंगिंग क्षेत्र से ताल्लुक रखता है?
मेरे नाना उस्ताद शकूर खान साहब क्लासिकल सिंगर हैं और मेरे दादा जी उस्ताद बसीर खान साहब हारमोनियम प्लेयर हैं। मेरे नाना जी की तरफ से सिंगिंग ब्लड में आ गया था। मैं छोटा था, तब पता नहीं था कि मुझे गाना है। मैं तो ड्रॉइंग और कार्टून बनाता रहता था। खेलते-कूदते समय जब नाना जी क्लास लेते थे, तब बाहर से सुनता था। एक दिन नाना जी को गाना सुनाया, तब वे बड़े खुश हुए। दरअसल, उनके पास शो से कॉल आया था। उन्होंने मुझे बताया। उसके बाद मैंने कई सारे ऑडिशन दिया, तब जाकर सिलेक्ट हुआ।

इस सफर में चैलेंज क्या रहा? सबसे टफ प्रतिभागी कौन लगा?
खुद से खुद के लिए जब भी लक्ष्य बनाया है, तब उसके आगे लक्ष्य का पहाड़ दिख जाता है। एक लक्ष्य हासिल करने के बाद लगता था कि चलो, यहां तक पहुंच गया हूं, अब आगे क्या करना है। अब ट्रॉफी मिलने के बाद भी मुझे यही लग रहा है कि इसके आगे क्या कर सकता हूं। मैं खुद ही खुद के लिए टफ प्रतिभागी रहा। सब यही सोचते हैं कि दूसरों से अच्छा गाना है, लेकिन मैं सोचता था कि खुद को कैसे रिपीट करूं कि पिछले सप्ताह से जितना अच्छा गाया, उससे ज्यादा अच्छा आगे गाऊं। खुद को कंपटीशन मानकर चला और हमेशा यही सोचा कि खुद से बेहतर गाना है।

इस शो के दौरान हिमेश रेशमिया ने आपको गाने का मौका दिया। क्या कहेंगे?
सारे जजेस बहुत ही प्यारे हैं। बहुत सपोर्ट करते हैं। मुझे ही नहीं, सभी बच्चों को प्यार देते हैं, इसलिए बहुत अपनापन लगता है। वे जैसे आते थे, वैसे हम सबसे मिलते थे। हमें आशीर्वाद देते थे। फिर जाकर अपने सिंहासन पर बैठते थे। इस तरह दिन की शुरुआत होती थी। कैप्टन भी बहुत प्यारे हैं। हिमेश जी ने मुझे सॉन्ग दिया, उससे अपने आपको लकी फील करता हूं। उन्होंने मुझ पर विश्वास जताया, तब यही सोचा कि इस जिम्मेदारी को कैसे निभा पाऊं।

हिमेश रेशमिया ने आपको वीडियो में मौका दिया। क्या इस जर्नी में उसका कुछ फायदा मिला?
ऐसा कुछ नहीं है। यह तो बाहर का सॉन्ग था। शो के अंदर तो मेरे जो परफॉर्मेंस होते थे, वह गाता था। हिमेश सर ने मुझसे ऑडिशन राउंड में जो प्रॉमिस किया था, वह चलते शो में पूरा किया। यह ऑप्चुर्यनिटी थी। उसका इस शो में ऐसा कुछ फायदा मिलने जैसी बात नहीं रही।

खबरें और भी हैं…



Source link