सुधीर ने गेम्स रिकॉर्ड के साथ जीता सोना: पैरा-पावरलिफ्टिंग में कॉमनवेल्थ गेम्स का गोल्ड जीतने वाले पहले भारतीय

0
21
Advertisement


बर्मिंघम30 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कहते हैं कि यदि जीत का जज्बा हो तो कोई भी सफलता हासिल की जा सकती है। भारतीय पैरा पॉवरलिफ्टर सुधीर ने इस बात को सही कर दिखाया है। उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स के गोल्ड मेडल जीता है। वे इन गेम्स में गोल्ड जीतने वाले देश के पहले पैरा पॉवरलिफ्टर बने हैं। उनसे पहले सकिना खातून ने 2014 के सीजन में ब्रॉन्ज जीता था।

5 साल की उम्र में सुधीर को पोलियो हो गया था। सोनीपत के गांव लाठ के सुधीर ने 2013 में खुद को फिट रखने के लिए पावरलिफ्टिंग शुरू की।

87.30 KG के सुधीर ने पुरुषों की हैवी वेट कैटेगरी में 212 KG वेट उठाते हुए गेम्स रिकॉर्ड रिकॉर्ड बनाया और गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया। सुधीर पहले प्रयास में 208 KG, दूसरे में 212 KG और 212 KG वजन उठाया है। वे आखिरी प्रयास में 217 KG वजन उठाने में नाकाम रहे। 134.5 पॉइंट्स लेकर सुधीर टॉप पर रहे और स्वर्ण पदक अपने नाम किया। हालांकि, वे आखिरी प्रयास में 217 KG उठाने में नाकाम हो गए।

नाइजीरिया के इकेचुकवु क्रिस्टियन उबिचुकवु ने 133.6 अंक के साथ रजत जबकि स्कॉटलैंड के मिकी यूले ने 130.9 अंक के साथ कांस्य पदक जीता। क्रिस्टियन ने 197 किग्रा जबकि यूले ने 192 किग्रा वजन उठाया।

इससे पहले मनप्रीत कौर और सकीना खातून महिला लाइटवेट फाइनल में क्रमश: चौथे और पांचवें स्थान पर रहते हुए पदक से चूक गईं जबकि पुरुष लाइटवेट फाइनल में परमजीत कुमार तीनों प्रयासों में विफल रहने के बाद अंतिम स्थान पर रहे।

5 लीटर दूध, चना और बादाम खाते हैं
सुधीर अपनी डाइट में 5 लीटर दूध, चना और बादाम खाते हैं। वे हर रोज 250 बेंच प्रेस लगाते हैं और 5 घंटे ट्रेनिंग करते हैं। वे सुबह तीन घंटे और शाम को दो घंटे जिमिंग करते हैं।

टैली में भारत के 20 मेडल हो गए हैं
इस गोल्ड के साथ मेडल टैली में भारत के 20 मेडल हो गए हैं। इनमें 6 गोल्ड, 7 सिल्वर और इतने ही ब्रॉन्ज शामिल हैं। गेम्स में सुधीर ने छठा गोल्ड दिलाया है। उनसे पहले वेटलिफ्टर मीराबाई चानू, जेरेमी लालनिरुंगा और अचिंता शेउली गोल्ड जीत चुके हैं। महिला लॉन बॉल और पुरुष टेबल टेनिस टीम ने भी गोल्ड जीते हैं।

एशियन पैरा गेम्स के लिए क्वालिफाई कर चुके है
सुधीर अगले साल चीन में आयोजित होने जा रहे एशिसन पैरा गेम्स 2022 में हिस्सा लेते नजर आएंगे। उन्होंने जून में विश्व पैरा पावरलिफ्टिंग एशिया-ओशिनिया ओपन चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज जीतकर क्वालिफाई किया है।

क्या है पैरा पॉवरलिफ्टिंग
पावरलिफ्टिंग एक खेल है जिसमें वजन उठाना होता है। इसमें वजन तीन कैटेगरी- स्क्वाट, बेंच प्रेस और डेडलिफ्ट कैटेगरी पर उठाते हैं। वजन उठाने पर शरीर के वजन और तकनीक के अनुसार अंक मिलते हैं। समान वजन उठाने पर शारीरिक रूप से कम वजन वाले खिलाड़ी को दूसरे की तुलना में अधिक अंक मिलते हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement