साधना की बर्थएनिवर्सरी: 34 साल के करियर में मिला सिर्फ एक अवॉर्ड, पति की मौत के बाद आखिरी समय में लगाने पड़े कोर्ट के चक्कर

0
43


30 मिनट पहले

60 के दशक की एक्ट्रेस साधना शिवदसानी ने फिल्मी करियर में कई हिट फिल्में दी थी। लग जा गले कि फिर ये हंसी रात हो ना हो, झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में, जैसे सुपरहिट गाने साधना पर ही फिल्माए गए थे। साधना का हेयर स्टाइल इतना फेमस हुआ कि आज उसे साधना कट हेयर स्टाइल के नाम से जाना जाता है। साधना अपने पेरेंट्स की इकलौती संतान थी, इसलिए उनकी परवरिश बहुत लाड प्यार से हुई थी। साधना को फिल्म लव इन शिमला के डायरेक्टर आर.के.नय्यर से फिल्म शूटिंग के दौरान ही प्यार हो गया था। इसके बाद दोनों से शादी भी कर ली।

30 साल की शादी के बाद आर.के.नय्यर की डेथ हो गई और उसके बाद साधना बिल्कुल अकेले हो गई थीं। अकेले इसलिए कि उनकी कोई भी संतान नहीं थी। इसके बाद उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी अकेले ही बिताई। लाइफ के अंतिम दिनों में उनके घर पर मुकदमा चलने लगा और वो कोर्ट के चक्कर काटने लगी और उसके बाद कैंसर की शिकार हो गई। बदनसीबी ऐसी की साधना की मौत पर दोस्तों और रिश्तेदारों में से कुछ ही लोग शामिल हुए थे।

आज साधना के बर्थ एनिवर्सरी के इनकी लाइफ से जुड़े कुछ दिलचस्प फैक्ट्स और किस्से जानते हैं-

एक्ट्रेस साधना बोस के नाम पर पिता ने रखा था साधना नाम

साधना का जन्म 2 सितंबर को कराची में एक सिंधी फैमली में हुआ था। 1945 के भारत-पाक बंटवारे के बाद साधना अपनी फैमिली के साथ आकर मुंबई शिफ्ट हो गई। उनके पिता ने उनका नाम एक्ट्रेस साधना बोस के नाम पर साधना रखा था।

फिल्ममेकर शशधर मुखर्जी ने दिया बड़ा फिल्मी ब्रेक

बचपन से साधना का भी सपना एक्ट्रेस बनने का ही था और उनके पिता ने फिल्मी दुनिया में कदम रखने में साधना की बहुत मदद की थी। 14 साल की उम्र में साधना बतौर चाइल्ड एक्ट्रेस राज कपूर की फिल्म चाची 420 में नजर आईं थीं। इस फिल्म में वो एक गाने मुड़-मुड़ के न देख के में कोरस करते हुए दिखी थीं। इस फिल्म के बाद साधना की तस्वीर एक मैग्जीन में छपी।

साधना की इस तस्वीर पर अपने जमाने के मशहूर फिल्ममेकर शशधर मुखर्जी की नजर पड़ी। साधना की खूबसूरती से वो इतने प्रभावित हुए थे कि उन्होंने अपने बेटे जाॅय मुखर्जी के साथ साधना को फिल्म लव इन शिमला में कास्ट कर दिया। इस फिल्म को डायरेक्टर आर.के.नय्यर ने डायरेक्ट किया था, जिससे बाद में साधना ने शादी कर ली थी। उनकी ये फिल्म हिट रही। इसके बाद साधना उसी बैनर के तले जाॅय मुखर्जी के साथ फिल्म एक मुसाफिर, एक हसीना में नजर आईं।

हेयर स्टाइल जिसने कर दिया था सबको दीवाना

फिल्म लव इन शिमला के डायरेक्टर आर.के.नय्यर ने साधना को अपना हेयर स्टाइल बदलने के लिए कहा था। दरअसल, साधना का माथा चौड़ा था। डायरेक्टर का मानना था कि अगर उनके माथे पर कुछ जुलफें आ जाएं तो उनकी खूबसूरती और बढ़ जाएगी। डायरेक्टर ने उन्हें ये सुझाव हाॅलीवुड एक्ट्रेस ऑड्रे हेपबर्न के फ्रिंज हेयर स्टाइल से इंस्पायर होकर दिया था। उनका ये लुक इतना पॉपुलर हुआ कि आज भी लोग उसे साधना हेयर कट के नाम से जानते हैं। बाद में साधना का यही हेयर स्टाइल उनकी पहचान बन गई।

एक्टर नहीं फिल्म डायरेक्टर से हुआ था प्यार

फिल्म लव इन शिमला के डायरेक्टर आर.के.नय्यर से साधना को प्यार हुआ था। 6 साल तक डेट करने के बाद दोनों ने शादी कर ली। साधना के घर वाले इस शादी के खिलाफ थे क्योंकि आर.के.नय्यर उम्र में साधना से काफी बड़े थे, पर बाद में फैमली ने हां कर दी थी। आर.के.नय्यर के साथ साधना बहुत खुश थी, जितने नाजों से साधना की फैमिली ने उनकी परवरिश की थी, वैसे ही उनके पति भी उनका ख्याल रखते थे। 30 साल की शादी के बाद साधना की खुशी को मानों किसी की नजर लग गई हो। अस्थमा की वजह से आर.के.नय्यर का निधन हो गया। पति के जाने के बाद साधना पूरी तरह से अकेली हो गईं थीं। उनकी कोई संतान भी नहीं थी, इसलिए जीवन गुजारना साधना के लिए और मुश्किल था।

आखिरी समय में दुखों से घिरी रहीं

साधना जिस घर में रहती थीं, उसी घर पर मुकदमा चलने लगा। इस वजह से उन्हें हमेशा कोर्ट का चक्कर लगाना पड़ता था। उनके आखिरी समय में उनके दोस्तों और रिश्तेदारों में से किसी ने भी उनका साथ नहीं दिया। ढलती उम्र के साथ साधना बहुत बीमार रहने लगी। बाद में पता चला कि उन्हें कैंसर है लेकिन उन्होंने अकेले ही सारा दुख झेला और 25 दिसंबर 2015 को साधना का निधन हो गया। पति के जाने के बाद 20 साल तक साधना बिल्कुल अकेली ही थी। बदनसीबी ऐसी की साधना की मौत पर दोस्तों और रिश्तेदारों में से कुछ ही लोग शामिल हुए थे।

30 फिल्मों में काम किया, पर एक अवॉर्ड से ही सम्मानित की गईं

साधना ने फिल्मी करियर में करीब 30 फिल्मों में काम किया था पर उन्हें कोई भी अवाॅर्ड नहीं मिला था। फिल्मी करियर छोड़ने के 8 साल बाद साधना को IIFA ने 2002 में लाइफटाइम अचीवमेंट अवाॅर्ड से सम्मानित किया था। साधना ने फिल्मी करियर से इसलिए ब्रेक लिया था क्योंकि वो नहीं चाहती थी आगे चलकर वो किसी भी साइड रोल में नजर आएं।



Source link