श्रीलंका की सियासत LIVE: नए PM विक्रमसिंघे बोले- भारत के साथ घनिष्ठ संबंधो की उम्मीद, मदद के लिए PM मोदी को धन्यवाद दिया

0
7


  • Hindi News
  • International
  • Sri Lanka Crisis LIVE Updates: Ranil Wickremesinghe | Mahinda Rajapaksa Gotabaya Rajapaksa New PM Wickremesinghe Said Hoping For Closer Relations With India, Thanked PM Modi For The Help

कोलंबो5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

श्रीलंका में भारी हिंसा, विरोध प्रदर्शन और राजनीतिक उथल-पुथल के बाद 73 साल के रानिल विक्रमसिंघे गुरुवार को ​​​​श्रीलंका के 26वें प्रधानमंत्री बने। विक्रमसिंघे ने प्रधानमंत्री बनने के बाद कहा कि वह भारत के साथ बहुत बेहतर संबंध होने की आशा करते हैं। उन्होंने आर्थिक संकट में फंसे श्रीलंका की वित्‍तीय मदद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्‍यवाद भी दिया।

प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे ने शुक्रवार को भारत, जापान, अमेरिका और चीन के राजदूतों के साथ मुलाकात की। इस मुलाकात में उन्होंने देश को वित्तीय सहायता के लिए एक अंतरराष्ट्रीय मंच के गठन पर चर्चा की।

आगे बढ़ने से पहले नीचे दिए पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दे सकते हैं…

श्रीलंका संकट के बड़े अपडेट्स…

  • भारतीय राजदूत गोपाल बागले ने शुक्रवार को नए प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे से मुलाकात की। वे नए प्रधानमंत्री से मुलाकात करने वाले पहले विदेशी दूत बन गए।
  • विक्रमसिंघे ने शुक्रवार को जापान, अमेरिका और चीन के राजदूतों से भी मुलाकात की। इस दौरान आर्थिक मदद के लिए इंटरनेशनल फोरम के गठन पर चर्चा हुई।

विक्रमसिंघे के आने से भारत के साथ श्रीलंका के संबंधों पर क्या असर पड़ेगा? जानने के लिए यहां क्लिक करें…

भारतीय उच्चायोग ने वीजा जारी करने पर रोक लगाने से इनकार किया

श्रीलंका में भारतीय उच्चायोग ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया है कि उसने देश में वीजा जारी करना बंद कर दिया है। उच्चायोग ने कहा कि यह वीजा विंग के कर्मचारियों की अक्षमता के कारण समस्या आई थी। इन कर्मचारियों में से अधिकांश श्रीलंकाई नागरिक हैं। उच्चायोग ने कहा कि वह जल्द ही अपने सामान्य कामकाज पर लौटने का प्रयास कर रहा है।

नए PM के बावजूद सरकार विरोधी अभियान जारी रखेंगे प्रदर्शनकारी

13 मई को कोलंबो में ईंधन और रसोई गैस की कमी के विरोध में सड़क जाम करते लोग। प्रदर्शन के दौरान इन्होंने खाली गैस सिलेंडर से रास्ता रोक रखा था।

13 मई को कोलंबो में ईंधन और रसोई गैस की कमी के विरोध में सड़क जाम करते लोग। प्रदर्शन के दौरान इन्होंने खाली गैस सिलेंडर से रास्ता रोक रखा था।

श्रीलंका के प्रदर्शनकारियों ने नए PM के बावजूद सरकार विरोधी अभियान जारी रखने का ऐलान किया है। राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग कर रहे सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों को खुश करने में विफल रही है। राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने एक हफ्ते तक चली हिंसक झड़प के बाद गुरुवार की देर रात विपक्षी राजनेता रानिल विक्रमसिंघे को प्रधानमंत्री नियुक्त किया।

इस हिंसा में 9 लोग मारे गए और 300 से अधिक घायल हुए हैं। कोलंबो में एक प्रदर्शनस्थल पर सैकड़ों लोग जमा थे। इनमें से एक प्रदर्शनकारी चामलगे शिवकुमार ने कहा कि जब हमारे लोगों को न्याय मिलेगा तो हम इस संघर्ष को रोक देंगे। हम इस संघर्ष को तब तक नहीं रोकेंगे, जब तक लोगों को राहत नहीं मिल जाता।

5 बार प्रधानमंत्री रह चुके है रानिल विक्रमसिंघे
73 साल के रानिल को देश का सबसे अच्छा पॉलिटिकल एडमिनिस्ट्रेटर और अमेरिका समर्थक माना जाता है। वे पहले भी 5 बार प्रधानमंत्री रह चुके हैं। 1993 में वे पहली बार 44 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने थे। विक्रमसिंघे अपनी पार्टी के इकलौते सांसद हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here