वाइस चांसलर ने गाड़ी-गनमैन लौटाए: सेहत मंत्री ने किया था जलील; PCMS एसोसिएशन का दावा – 4 महीने में 50 डॉक्टरों ने नौकरी छोड़ी

0
12
Advertisement


चंडीगढ़23 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पंजाब की बाबा फरीद मेडिकल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर (VC) डॉ. राज बहादुर इस्तीफा वापस नहीं लेंगे। उन्होंने सरकार को गाड़ी और गनमैन वापस लौटा दिए हैं। VC बनने के बाद सरकार ने उन्हें सुरक्षा समेत यह सुविधाएं दी थी। 6 दिन बीतने के बाद भी सरकार ने उनके इस्तीफे पर फैसला नहीं लिया है। कुछ दिन पहले सेहत मंत्री चेतन सिंह जौड़ामाजरा फरीदकोट मेडिकल कॉलेज में चेकिंग करने गए थे।

उन्होंने बंद पड़े कैदी वार्ड को खुलवा वहां पड़े फटे-गंदे गद्दे में VC को लिटाया था। वहीं पंजाब सिविल सर्विसेज मेडिकल (PCMS) एसोसिएशन ने दावा किया कि आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार बनने के बाद 50 डॉक्टर नौकरी छोड़ चुके हैं।

गंदे गद्दे पर लिटाने के साथ मंत्री ने सफाई को लेकर भी वीसी को जमकर फटकार लगाई थी।

गंदे गद्दे पर लिटाने के साथ मंत्री ने सफाई को लेकर भी वीसी को जमकर फटकार लगाई थी।

4 महीने में 50 डॉक्टरों ने नौकरी छोड़ी
PCMS एसोसिएशन के मुताबिक खरड़ अस्पताल की SMO डॉ. मनिंदर कौर ने स्वैच्छिक सेवामुक्ति (VRS) मांगी। डॉ. कौर को भी सेहत मंत्री जौड़ामाजरा ने फटकार लगा खरड़ से बरनाला के धनौला में ट्रांसफर कर दिया था। वह पूर्व सीएम चरणजीत चन्नी की भाभी हैं।

उनके अलावा आई स्पेशलिस्ट डॉ. सुखविंदर देओल ने भी VRS मांगा है। उन्हें बस्सी पठाना सेहत केंद्र से खरड़ अस्पताल में SMO ट्रांसफर किया गया था। उनके अलावा आई सर्जन डॉ. नरेश चौहान, ENT स्पेशलिस्ट डॉ. संदीप सिंह भी नौकरी छोड़ रहे हैं। इससे पहले अमृतसर मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. राजीव देवगन, वाइस प्रिंसिपल डॉ. कुलार सिंह, मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. केडी सिंह भी इस्तीफा दे चुके हैं।

CM मान की MLA को नसीहत, एग्रेसिव रेड से बचें
सेहत मंत्री-VC विवाद के बाद सीएम भगवंत मान ने विधायकों को नसीहत दी है। उन्हें सरकारी ऑफिसों में एग्रेसिव रेड से बचने को कहा गया है। सीएम का कहना है कि इससे जनहित में कुछ अच्छा नहीं हो रहा। उलटा सरकार को शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement