रूस-यूक्रेन जंग जारी: यूक्रेन में अब तक 382 बच्चों की मौत,741 घायल; आधी आबादी पलायन कर चुकी

0
15


कीव3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रूस-यूक्रेन जंग जारी है। ​​​​​​यूक्रेन के प्रासीक्यूटर जनरल ऑफिस (PGO) ने बताया कि रूस के अटैक के बाद अब तक यूक्रेन में 382 बच्चों की मौत हो चुकी है जबकि 741 घायल हुए हैं। रूस के हमले से तबाह यूक्रेन की आधी से ज्यादा आबादी दूसरे देशों में पनाह ले चुकी है। कुछ लोग अब भी देश छोड़ने को तैयार नहीं हैं। उनका मानना है कि जैसे भी हैं, यहीं ठीक हैं। कुछ दिन हालात सुधर जाएंगे।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डोनेस्टक में 388, खार्किव में 204, कीव में 116 मायकोलाइव में 71, लुहांस्क में 61, खेरसॉन में 55 और जापोरिजिया में 46 बच्चों की मौत हुई है। शनिवार को रूस की गोलीबारी में एक बच्चे की मौत हो गई थी। कई घायल भी हो गए थे।

यूक्रेन में चारों ओर बर्बादी दिखाई देती है। 5 बड़े शहर लीव, खार्किव, कीव और खोरासन पूरी तरह तबाह हो गए हैं।

मारियुपोल में निर्माण कर रहा रूस

रूस ने 24 फरवरी को यूक्रेन पर अटैक किया था। इसके बाद से जंग जारी है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने 24 फरवरी को महीनों से चल रहे तनाव के बाद सैन्य अभ्यास का ऐलान किया था। इसके बाद दक्षिणी यूक्रेन के बंदरगाह शहर मारियुपोल पर रूस ने मई में कब्जा कर लिया था। अब रूस ने यहां निर्माण शुरू कर दिया है। रूस घर, अस्पताल और स्कूल बनाना चाहता है।

रूस हमले के बाद अब तक यूक्रेन के 382 बच्चों की मौत हो चुकी है। डर की वजह से आधी आबादी पलायन कर चुकी है।

रूस हमले के बाद अब तक यूक्रेन के 382 बच्चों की मौत हो चुकी है। डर की वजह से आधी आबादी पलायन कर चुकी है।

इस साल नहीं मनाया स्वतंत्रता दिवस

यूक्रेन में 24 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। इसी दिन हमले के 6 महीने भी पूरे हुए। रूसी हमले के चलते स्वतंत्रता का जश्न नहीं मनाया गया। कुछ दिन पहले यूक्रेन के 1900 एजुकेशन इंस्टीट्यूट तबाह हुए थे। रूस हमले से अब तक यूक्रेन को 48 लाख करोड़ का नुकसान हो चुका है।

तुर्की में ब्लैक सी से गेहूं ट्रांसपोर्ट को लेकर यूक्रेन और रूस के प्रतिनिधियों के बीच जुलाई 2022 में बैठक हुई थी। इस बैठक में यूक्रेन के विदेश मंत्री ने सिक्योरिटी को सबसे अहम मुद्दा बताया था। उनके मुताबिक, जब तक गेंहू ले जाने के लिए प्राप्त सिक्योरिटी नहीं मिलेगी, तब तक यहां से गेहूं जाना मुश्किल है। इसके बाद UN के दखल के बाद समझौता हुआ और अब यूक्रेन फूड आइटम्स एक्सपोर्ट कर रहा है। इससे फूड सिक्योरिटी के खतरे से जूझ रही दुनिया को काफी हद तक राहत मिलेगी।

खबरें और भी हैं…



Source link