ब्राजील को आज मिलेगा नया राष्ट्रपति: दूसरे राउंड की वोटिंग जारी, बोल्सोनारो और लूला के बीच कड़ी टक्कर

0
6


ब्रासीलिया4 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

लैटिन अमेरिका के सबसे बड़े देश ब्राजील में राष्ट्रपति चुनाव का दूसरे राउंड जारी है। अगले राष्ट्रपति का फैसला आज हो जाएगा। वर्कर्स पार्टी के लूला डा सिल्वा और सोशल लिबरल पार्टी और ब्राजील के वर्तमान राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो के बीच कड़ी टक्कर है।

पिछले महीने हुए वोटिंग के पहले राउंड में डि सिल्वा को 48.4% जबकि बोल्सोनारो को 43.23% वोट मिले थे। ब्राजील के संविधान के मुताबिक, चुनाव जीतने के लिए किसी भी कैंडिडेट को कम से कम 50% वोट हासिल करने होते हैं।

दूसरा टर्म चाहते हैं बोल्सोनारो
67 साल के बोल्सोनारो साफ कर चुके हैं कि उनकी कंजर्वेटिव सोशल लिबरल पार्टी हर सूरत में इलेक्शन जीतेगी। पिछले दिनों उन्होंने कहा- मैं 2018 में इलेक्शन जीता। अगर इस बार फर्जीवाड़ा नहीं हुआ तो यह इलेक्शन भी वही जीतेंगे।

बोल्सोनारो वोटिंग के पहले से फ्रॉड के मुद्दे उछाल रहे हैं। वो अपने समर्थकों को भी हिंसा के लिए भड़का रहे थे।

बोल्सोनारो वोटिंग के पहले से फ्रॉड के मुद्दे उछाल रहे हैं। वो अपने समर्थकों को भी हिंसा के लिए भड़का रहे थे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, बोल्सोनारो की हार का अंदेशा जताया जा रहा है। बोल्सोनारो साफ कह चुके हैं कि अगर वो चुनाव हारे तो वो अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का रास्ता अपनाएंगे और नतीजों को कबूल नहीं करेंगे। इसके चलते हिंसा होने का खतरा बढ़ गया है। 22 करोड़ की आबादी वाला ब्राजील छावनी में तब्दील हो गया है।

हथियार लेकर घूम रहे बोल्सोनारो समर्थक
मतदान केंद्रों से 100 मीटर की दूरी तक हथियार नहीं ले जाने के आदेशों के बावजूद कई जगह बोल्सोनारो समर्थक खुलेआम हथियारों के साथ घूम कर वोटरों को धमकाने में लगे हुए हैं।
ब्राजील के वर्तमान राष्ट्रपति बोल्सोनारो ब्राजील में सेल्फ डिफेंस के नाम पर आसानी से गन लाइसेंस देने के समर्थक हैं। उनका कहना है कि इससे ब्राजील में बढ़ते क्राइम रेट पर नियंत्रण लगाया जा सकता है। साथ ही इससे लोगों में सुरक्षा की भावना बढ़ेगी।

लूला डा सिल्वा ने चुनाव मैदान में भ्रष्टाचार को खत्म करने का अभियान छेड़ा था। उनका कहना था कि बोल्सोनारो के दौर में भ्रष्टाचार बढ़ा। वैसे लूला भी राष्ट्रपति रह चुके हैं और उन्हें भ्रष्टाचार के कारण पद छोड़ना पड़ा था।

लूला डा सिल्वा ने चुनाव मैदान में भ्रष्टाचार को खत्म करने का अभियान छेड़ा था। उनका कहना था कि बोल्सोनारो के दौर में भ्रष्टाचार बढ़ा। वैसे लूला भी राष्ट्रपति रह चुके हैं और उन्हें भ्रष्टाचार के कारण पद छोड़ना पड़ा था।

बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर चुनाव प्रचार कर रहे थे नेता
इस बार ब्राजील में सियासी नफरत इस कदर बढ़ गई कि बोल्सोनारो और लूला दोनों ही बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर प्रचार करते नजर आए। हाल ही में राष्ट्रपति बोल्सोनारो के एक समर्थक ने लूला-समर्थक की चाकू घोंपकर हत्या कर दी थी। बोल्सोनारो पर तो पिछले चुनाव में प्रचार के दौरान हमला भी हुआ था।

दरअसल, ब्राजील में गैंग कल्चर यहां पर हाई क्राइम का कारण है। चुनाव के दौरान बड़े राजनीतिक दल हिंसा फैलाने और वोटरों को अपने पक्ष में करने के लिए इन गैंग को भाड़े पर रखते हैं। इस चुनाव के प्रचार के दौरान ही राजनीतिक हिंसा की 250 से ज्यादा वारदात हुईं। इनमें 2000 से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारियां भी हुईं।

खबरें और भी हैं…



Source link