बायकॉट कल्चर पर जावेद अख्तर का रिएक्शन: कहा- यह केवल एक फेज है, अगर ऑडियंस को फिल्म पसंद आई तो जो फिल्म जरूर हिट होगी

0
20


9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बायकॉट कल्चर के चक्कर में कई फिल्में अभी तक ध्वस्त हो चुकी हैं। आलम यह है कि कई मेकर्स फिल्मों के रिलीज को लेकर काफी नर्वस हैं। यही वजह है कि बी-टाउन के कई सेलेब्स इस कल्चर पर खुलकर बात कर चुके हैं। इसी कड़ी में फेमस लिरिसिस्ट जावेद अख्तर का रिएक्शन भी सामने आया है। दरअसल हाल ही में जावेद अपनी शबाना के साथ 67 वें फिल्मफेयर अवार्ड में पहुंचे थे। वहां जब उनसे बॉलीवुड कल्चर पर सवाल किया गया, जिस पर जावेद ने कहा ‘यह केवल एक फेज है, जो जल्द ही खत्म हो जाएगा।

काम नहीं करेगा बायकॉट कल्चर
बॉयकॉट कल्चर को बेअसर बताते हुए है जावेद ने ई टाइम्स से बातचीत में कहा – यह महज एक फेज है। मुझे नहीं लगता ऐसा कोई कल्चर काम करता है। अगर आपकी फिल्म अच्छी है और दर्शकों को पसंद आती है तो वो बॉक्सऑफिस पर जरूर अच्छा परफॉर्म करेगी। वहीं अगर फिल्म अच्छी नहीं है और दर्शकों को पसंद नहीं आती है, तो वह परफॉर्म नहीं कर पाएगी। मुझे नहीं लगता कैंसिल या बायकॉट कल्चर फिल्म पर किसी तरह का प्रभाव डाल सकते हैं।

जावेद अख्तर ने साझा की पहले फिल्मफेयर की यादें
जावेद अख्तर बॉलीवुड की जानी मानी हस्तियों में से एक है। वो करीब 5 दशक से फिल्मफेयर का हिस्सा रहे हैं। एक्टर ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में अपने पहले फिल्मफेयर अवार्ड की यादें ताजा की। जावेद ने बताया कि वो साल 1958 में पहली बार फिल्मफेयर का हिस्सा बने थे। उस साल बीना राय को बेस्ट एक्ट्रेस का अवार्ड मिला था, वहीं दिलीप कुमार और बिमल रॉय को बेस्ट एक्टर का अवार्ड से सम्मानित किया गया था।

खबरें और भी हैं…



Source link