बांग्लादेश की PM शेख हसीना आज से भारत दौरे पर: 8 सितंबर तक रहेंगी; यूक्रेन से बांग्लादेशी छात्रों के रेस्क्यू के लिए मोदी की तारीफ

0
13


  • Hindi News
  • National
  • Will Be There Till September 8; Modi Praised For Rescue Of Bangladeshi Students From Ukraine

2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना आज चार दिन की भारत यात्रा पर आ रही हैं। इसके पहले उन्होंने रोहिंग्या मुसलमानों को उनके देश के लिए एक चुनौती बताया। उन्होंने कहा- ये देश के लिए बहुत बड़ा बोझ हैं और उन्हें लगता है कि इस मुद्दे का समाधान निकलने में भारत एक बड़ी भूमिका निभा सकता है। उन्होंने रूस-यूक्रेन युद्ध में फंसे बांग्लादेशी छात्रों का रेस्क्यू करने के लिए भारत के PM नरेंद्र मोदी की तारीफ की।

कुछ लोग ड्रग स्मगलिंग कर रहे
उन्होंने कहा- हमने मानवीय आधार पर उन्हें शरण दी थी। हमने जरूरत की सभी चीजें उपलब्ध कराईं हैं। कोरोना काल में सभी रोहिंग्या को वैक्सीन भी लगवाई गई। लेकिन कितने लंबे समय तक वो यहां रहेंगे? वो कैंप बनाकर रह रहे हैं। कुछ लोग ड्रग स्मगलिंग, हथियारों और महिलाओं की तस्करी जैसे धंधों में फंस गए हैं। वो जितना जल्दी अपने देश चले जाएं उतना ही अच्छा होगा।

बांग्लादेश में श्रीलंका जैसा हाल नहीं होगा
चीन बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) के जरिए बांग्लादेश और नेपाल जैसे छोटे देशों में पैर पसार रहा है। चीन गरीब देशों में कर्ज के रूप में बड़ा निवेश करता है। लेकिन जब रेवेन्यू जेनरेट नहीं होता तो गरीब देश चीन के कर्ज तले दब जाते हैं। यही श्रीलंका में हुआ। श्रीलंका कर्जदार होता चला गया और आखिरकार दिवालिया हो गया। इस पर बांग्लादेश की PM ने कहा- हमारी इकोनॉमी अब भी मजबूत है। कोरोना काल, रूय-यूक्रेन जंग का असर तो हुआ है, लेकिन बांग्लादेश हमेशा समय रहते कर्ज चुका देता है। हमारा डेबिट रेट काफी कम है। हमारा डेवलपमेंट बहुत कैल्कुलेटिव है। सब प्लान के मुताबिक ही चल रहा है।

कुछ एक्सपर्ट्स मानते हैं कि फॉरेन रिजर्व कम होने के बावजूद बांग्लादेश कंगाल नहीं होगा। वो कहते हैं- रेडीमेड गारमेंट एक्सपोर्ट्स बांग्लादेश को बचा लेगा। लेकिन, ये भी भारत के बिना मुमकिन नहीं, क्योंकि 90% कॉटन तो भारत ही बांग्लादेश को देता है।

कुछ एक्सपर्ट्स मानते हैं कि फॉरेन रिजर्व कम होने के बावजूद बांग्लादेश कंगाल नहीं होगा। वो कहते हैं- रेडीमेड गारमेंट एक्सपोर्ट्स बांग्लादेश को बचा लेगा। लेकिन, ये भी भारत के बिना मुमकिन नहीं, क्योंकि 90% कॉटन तो भारत ही बांग्लादेश को देता है।

बांग्लादेश का ‘टेस्टेड फ्रेंड’ है भारत
उन्होंने भारत को बांग्लादेश का ‘टेस्टेड फ्रेंड’ यानी परखा हुआ मित्र बताया। उन्होंने कहा- भारत ने वैक्सीन मैत्री प्रोग्राम के तहत बांग्लादेश को वैक्सीन की कई खेप भेजीं। ये भी सराहनीय है। उन्होंने पड़ोसी देशों के बीच मजबूत सहयोग कायम रखने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि भारत और बांग्लादेश के बीच मतभेद हो सकते हैं, लेकिन उन्हें बातचीत के माध्यम से हल किया जाना चाहिए।

भारत ने मुश्किल समय में मदद की
शेख हसीना ने मुश्किल समय में मदद करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ भी की। उन्होंने कहा- रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग के बीच हमारे (बांग्लादेश) कई छात्र पूर्वी यूरोप में फंस गए थे। इन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल के बाद भारत साया गया। हसीना ने कहा- बांग्लादेश के कई छात्र जंग से बचकर पोलैंड चले गए थे। लेकिन जब भारत सरकार भारतीय छात्रों को बचाने में लगी हुई थी उन्होंने हमारे छात्रों को मुसीबत में नहीं छोड़ा। वो भी हमारे छात्रों को भी वापस घर ले आए।

खबरें और भी हैं…



Source link