‘फौजियों के घर’ में प्रियंका के निशाने पर अग्निवीर: नगरोटा की चुनावी सभा में खुद को शहीद की बेटी बताकर हिमाचली लोगों से किया कनेक्ट, योजना रद्द करेंगे

0
9


शिमला5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कांगड़ा के मशहूर शक्तिपीठ ज्वालाजी में दर्शन के लिए पहुंची प्रियंका गांधी

हिमाचल को देवभूमि के साथ ‘वीरभूमि’ भी कहा जाता है और यहां सबसे ज्यादा फौजी कांगड़ा जिले में ही हैं। हिमाचल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए शुक्रवार को कांगड़ा के नगरोटा बगवां में रैली करने पहुंची पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने खुद को ‘शहीद’ की बेटी बताकर हिमाचल के फौजी परिवारों और दूसरे लोगों से कनेक्ट करने का प्रयास किया।

कांगड़ा के नगरोटा-बगवां में शुक्रवार को ‘परिवर्तन प्रतिज्ञा रैली’ में पहुंची प्रियंका ने वीरभूमि हिमाचल को नमन करते हुए कहा कि वह शहीद परिवारों के दर्द को बखूबी समझती हैं। प्रियंका ने फौज में भर्ती के लिए अग्निवीर योजना लाने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। साथ ही कांग्रेस के सत्ता में आने पर इस योजना को बंद करने का वादा भी किया।

पूछा- 4 साल बाद फौजी भाई क्या चपरासी बनेंगे?

प्रियंका गांधी ने कहा कि हिमाचल के युवा बड़ी संख्या में आर्मी में भर्ती होते हैं लेकिन मोदी सरकार फौज में भर्ती के लिए ‘अग्निवीर योजना’ ले आई है। इस योजना के तहत फौज में भर्ती होने वाले हिमाचली युवा 4 साल की नौकरी के बाद बेरोजगार होकर घर लौट आएंगे। उसके बाद ये युवा क्या चपरासी बनेंगे? प्रियंका ने कहा कि केंद्र में कांग्रेस सरकार बनने पर अग्निवीर योजना को बंद किया जाएगा।

प्रियंका ने इसलिए उठाया अग्निवीर का मुद्दा

हिमाचल के 12 जिलों में से फौज में सबसे अधिक लोग कांगड़ा जिले से ही हैं। सेना में रहते हुए कांगड़ा जिले के 734 जवान शहादत पा चुके हैं। सेना में सर्वोच्च बलिदान के लिए देश में आज तक कुल 21 फौजियों को परमवीर चक्र मिला है जिनमें 4 जवान हिमाचल के हैं। इनमें से दो परमवीर चक्र विजेता- मेजर सोमनाथ शर्मा और कैप्टन विक्रम बतरा कांगड़ा जिले से ही ताल्लुक रखते हैं। कैप्टन बिक्रम बत्तरा कारगिल युद्ध में शहीद हुए थे। ‘दिल मांगे मोर’ का नारा देने की वजह से उन्हें हर कोई जानता है।

जयराम पर सीधा निशाना

प्रियंका ने हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जयराम सरकार के 5 बरस के कार्यकाल में PPE किट, पुलिस भर्ती और शिक्षक भर्ती घोटाले हुए। जयराम सरकार युवाओं को रोजगार देने में नाकाम रही। महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, आर्थिक संकट और बागवानी के मुद्दे पर भी BJP सरकार फेल रही।

धार्मिक कार्ड भी खेला
नगरोटा बगवां की सभा में जाने से पहले प्रियंका गांधी ने ज्वालाजी मंदिर जाकर मां ज्वाला के दर्शन किए और माथा टेका। ज्वालाजी मंदिर शक्तिपीठों में से एक है और इसकी बहुत मान्यता है। प्रियंका ने वहां जाकर लोगों की धार्मिक भावनाओं को छूने की कोशिश की। इससे पहले 31 अक्टूबर को मंडी में सभा करने पहुंची प्रियंका ने वहां के मशहूर बाबा भूतनाथ मंदिर और सोलन रैली के दौरान वहां शूलिनी मंदिर जाकर मां शूलिनी देवी के दर्शन किए थे।

पांच साल में 5 लाख युवाओं को रोजगार की बात दोहराई

यूथ वोटबैंक को ध्यान में रखते हुए प्रियंका गांधी ने मंडी की तरह नगरोटा रैली में भी हर साल एक लाख युवाओं और पांच साल में पांच लाख युवाओं को रोजगार देने की बात दोहराई। प्रियंका ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने पर पहली ही कैबिनेट में एक लाख युवाओं को रोजगार दिया जाएगा। सरकारी विभागों में खाली पड़े 63 हजार पद भी भरे जाएंगे।

उद्योगपतियों का कर्ज माफ कर सकती है मोदी सरकार, पेंशन नहीं दे सकती

प्रियंका गांधी ने कहा कि मोदी सरकार उद्योगपतियों का 10 लाख करोड़ रुपए का कर्ज माफ कर सकती है लेकिन कर्मचारियों को पेंशन देने के लिए उसके पास पैसा नहीं है। मोदी सरकार एक-एक कर सार्वजनिक क्षेत्र के बोर्ड-निगम बेच रही है और युवाओं को रोजगार नहीं दिया जा रहा।

पहली ही कैबिनेट में OPS करेंगे बहाल: प्रियंका

प्रियंका ने कांग्रेस की ओर से हिमाचल चुनाव में दी गई 10 गारंटियों का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने पर पहली ही कैबिनेट में कर्मचारियों की ओल्ड पेंशन स्कीम (OPS) को बहाल किया जाएगा। कांग्रेस की सरकार ने राजस्थान और छत्तीसगढ़ में पेंशन दे रही है।

BJP को सत्ता से बाहर करने का मन बना चुकी जनता

प्रियंका गांधी ने कहा, ‘कांग्रेस प्रदेशभर में प्रचार कर रही है और भारतीय जनता पार्टी अभी भी बागियों को मनाने में बिजी है। BJP नेताओं को हार का आभास हो गया है। मैं जानती हूं कि आप बदलाव चाह रहे हैं और इसके लिए मन बना चुके हैं। जयराम सरकार ने हिमाचल को कर्ज में डुबोया है। प्रदेश में 70 हजार करोड़ का कर्ज हो गया है।’

कांग्रेस के सामने मोमेंटम बनाए रखने की चुनौती

प्रियंका की रैली हिमाचल की सत्ता की चाबी तय करने वाले कांगड़ा जिले में कांग्रेस को मजबूती देगी। 2017 के विधानसभा में कांग्रेस यहां की 15 सीटों में से 3 सीटें ही जीत पाई थी। नगरोटा रैली में जिस तरह लोग पहुंचे, उसे कांग्रेस के लिए अच्छा अच्छा संकेत

खबरें और भी हैं…



Source link