फेक न्यूज एक्सपोज: यूपी में सरकारी स्कूलों के मिड डे मील में मिल रही आईस्क्रीम, फल और पनीर की सब्जी? जानिए वायरल PHOTO का सच

0
32


  • Hindi News
  • No fake news
  • Ice Cream, Fruit And Cheese Curry Being Available In Mid day Meals Of Government Schools In UP? Know The Truth Of The Viral Photo

5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

क्या हो रहा है वायरल : हाथ में डेली मील की थाली लिए सरकारी स्कूल के बच्चे की एक फोटो वायरल हो रही है। डेली मील की थाली में पूड़ी, पनीर की सब्जी, सलाद, मिल्क शेक और आईस्क्रीम दिख रही है। दावा किया जा रहा है कि ये फोटो यूपी के एक सरकारी स्कूल का है। सरकारी स्कूलों में बच्चों को उत्तर प्रदेश सरकार इस तरह का डेली मील देती है।

एक यूजर ने फोटो शेयर कर लिखा- ऐसा खाना ठीक ठाक कमाने वाला प्रतिदिन नहीं खाता होगा, जैसा उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों के मिड डे मील में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की सरकार दे रही है।

एक अन्य यूजर ने लिखा- महाराज जी के उत्तर प्रदेश में बस एक ही खराबी है कि महाराज जी नहीं जानते कि इसका प्रचार कैसे करना है।

और सच क्या है?

  • वायरल फोटो का सच जानने के लिए हमने इसे गूगल पर रिवर्स सर्च किया। सर्च रिजल्ट में हमें फोटो खबर के साथ नव भारत टाइम्स की वेबसाइट पर मिली।
  • वेबसाइट के मुताबिक, ये फोटो जालौन के मलकपुरा उच्च प्राथमिक विद्यालय का है। जहां बच्चों को मिड डे मील में तरह-तरह के व्यंजन परोसे जाते हैं। यह काम मलकपुरा के प्रधान अमित स्कूल प्रबंधन के साथ मिलकर करते हैं।
  • पड़ताल के अगले चरण में हमने मलकपुरा के प्रधान अमित से संपर्क किया। उन्होंने भास्कर को बताया कि फरवरी 2022 से मलकपुरा उच्च प्राथमिक विद्यालय के मिड डे मील को बेहतर बनाने के लिए एड ऑन कॉन्सेप्ट शुरू किया गया।
  • एड ऑन कॉन्सेप्ट में हमने सरकार के द्वार दिए खाने के मेन्यू में कई चीजें जोड़ दीं। हमने फल में सेब जोड़ दिया, सब्जी में मटर पनीर, सलाद प्रतिदिन कर दी। इसके अलावा हमने दूध की जगह मिल्क शेक जोड़ दिया।
  • अमित ने आगे बताया कि 1 जुलाई से हमने तिथि भोजन का कॉन्सेप्ट शुरू कर दिया। इसके तहत जो लोग अपनी खुशी से बच्चों के लिए जो कुछ भी करना या देना चाहते हों, वह दे सकते हैं।
  • मिड डे मील के एड ऑन के बजट के लिए हमें कई लोग सहायता करते हैं। अब बात आती है कि यह मिड डे मील सरकार का है या हमारा, तो ना यह सरकार का है और ना ही सिर्फ हमारा है।
  • मिड डे मील की बुनियादी जरूरतें हमें सरकार ही मुहैया करा रही है, जैसे- रसोई, खाना बनाने वाले, खाने का सामान। इसे बेहतर बनाने के लिए हमने लोगों की मदद से एड ऑन शुरू कर दिया। इस तरह का मिड डे मील उत्तर प्रदेश में सिर्फ हमारे स्कूल में ही मिलता है।
  • साफ है कि सोशल मीडिया पर वायरल फोटो के साथ किया जा रहा दावा गलत है। फोटो में बच्चे की थाली में दिख रहा मिड डे मील मलकपुरा के प्रधान अमित ने सरकार के बुनियादी मिड डे मिल में एड कर के दिया है।

खबरें और भी हैं…



Source link