दिल्ली में छावला गैंगरेप केस के तीनों दोषी बरी: सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट का फैसला पलटा, HC ने फांसी की सजा दी थी

0
6


नई दिल्ली9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

दिल्ली के छावला में 2012 में 19 साल की लड़की से गैंगरेप करने के दोषियों को सुप्रीम कोर्ट ने बरी कर दिया है। 2014 में इस केस में निचली अदालत और दिल्ली हाईकोर्ट ने आरोपियों रवि कुमार, राहुल और विनोद को फांसी की सजा दी थी। सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को CJI यूयू ललित की बेंच ने इस फैसले को पलट दिया।

19 साल की लड़की के साथ की गई थी दरिंदगी
9 फरवरी 2012 की रात नौकरी से लौटते समय उत्तराखंड की लड़की को आरोपियों ने अगवा कर लिया था। उसके साथ छावला में गैंगरेप किया गया था। आरोपी उसे गाड़ी में बिठाकर दिल्ली से बाहर ले गए थे। गैंगरेप के दौरान लड़की के साथ दरिंदगी भी की गई। उसके शरीर को सिगरेट से दागा गया और चेहरे पर तेजाब डाला गया। उसके शरीर पर कार के टूल्स और कई चीजों से हमला किया गया। गैंगरेप के बाद आरोपियों ने उसकी हत्या कर दी थी। 14 फरवरी को हरियाणा के रेवाड़ी में लड़की की लाश मिली थी।

निचली अदालत के फैसले को हाईकोर्ट ने कायम रखा था
इस मामले में दिल्ली पुलिस ने राहुल, रवि और विनोद नाम के आरोपियों को गिरफ्तार किया था। इस केस में दिल्ली की निचली अदालत ने साल 2014 में दुर्लभतम केस करार देते हुए तीनों आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई थी। 26 अगस्त 2014 में हाईकोर्ट ने भी इस फैसले को सही ठहराते हुए फांसी की सजा को कायम रखा था।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था- भावनाओं के आधार पर फैसले नहीं दिए जाते
7 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान जजों ने कहा था कि भावनाओं को देखकर सजा नहीं दी जा सकती है। दरअसल केस की सुनवाई के दौरान पीड़ित लड़की के पिता ने कहा था कि मामले के दोषियों को फांसी की सजा दी जाए। इस पर जजों ने कहा था कि सजा तर्क और सबूत के आधार पर दी जाती है। हम आपकी भावनाओं को समझ रहे हैं, लेकिन भावनाओं को देखकर कोर्ट में फैसले नहीं होते हैं।

टीचर बनने का था सपना, पिता का हाथ बटाने करती थी जॉब
लड़की उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल की रहने वाली थी और अपने परिवार के साथ दिल्ली के कुतुब विहार में रहती थी। परिवार में माता-पिता और दो छोटे भाई बहन थे। उसका सपना था कि वह एक टीचर बने। दिल्ली के कॉलेज में पढ़ते हुए उसने तय किया कि वह अपने पिता का हाथ बटाने के लिए जॉब करेगी। इसके लिए वह कम सैलरी में भी साइबर सिटी में डेटा इनपुट ऑपरेटर की जॉब कर रही थी।

खबरें और भी हैं…



Source link