ताइवान में US स्पीकर: राष्ट्रपति साई इंग वेन से मिलीं पेलोसी; चीन ने ताइवान को होने वाले नेचुरल सैंड एक्सपोर्ट पर रोक लगाई

0
12
Advertisement


  • Hindi News
  • International
  • US House Speaker Nancy Pelosi Taipei Visit Updates China Bans Natural Sand Exports To Taiwan; Pelosi Meets With President Tsai Ing Wen

वॉशिंगटन/बीजिंग/सिंगापुर2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी आज सुबह ताइवान की संसद पहुंचीं। उन्होंने राष्ट्रपति साई इंग वेन से मुलाकात की। इस दौरान पेलोसी को ताइवान के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ प्रॉपिटियस क्लाउड्स विद स्पेशल ग्रैंड कॉर्डन’ से सम्मानित किया गया।

पेलोसी ने कहा-अमेरिका ताइवान का साथ नहीं छोड़ेगा। हमारे कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल की ताइवान यात्रा इस देश के जीवंत लोकतंत्र का समर्थन करने के लिए अमेरिका के कमिटमेंट का सम्मान करती है।

इधर, पेलोसी की विजिट से बौखलाए चीन ने ताइवान के लिए आर्थिक परेशानियां खड़ी करना शुरू कर दिया है। चीनी सरकार ने ताइवान को नेचुरल सैंड के देने पर रोक लगा दी है। इससे ताइवान को काफी नुकसान हो सकता है। कोरोना महामारी के बाद से कंस्ट्रक्शन और इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट ताइवान के लिए इनकम का सोर्स बन गया है। ऐसे में रेत का निर्यात रोकने से ताइवान को आर्थिक नुकसान होगा। 1 जुलाई को भी चीन ने ताइवान के 100 से ज्यादा फूड सप्लायर से आयात (इम्पोर्ट) पर प्रतिबंध लगाया था।

चाइना मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स ने एक बयान में कहा- हम ताइवान को दी जाने वाली नेचुरल सैंड का एक्सपोर्ट रोक रहे हैं।

चाइना मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स ने एक बयान में कहा- हम ताइवान को दी जाने वाली नेचुरल सैंड का एक्सपोर्ट रोक रहे हैं।

अमेरिका ताइवान की डेमोक्रेसी के समर्थन में
ताइवान पहुंचने पर पेलोसी ने कहा- अमेरिका ताइवान की डेमोक्रेसी का समर्थन जारी रखेगा। ताइवान के 2.30 करोड़ नागरिकों के साथ अमेरिका की एकजुटता आज पहले से कहीं अधिक अहम है, क्योंकि दुनिया ऑटोक्रेसी (निरंकुशता) और डेमोक्रेसी के बीच एक विकल्प का सामना कर रही है। वहीं, चीनी ने इस दौरे की निंदा करते हुए कहा है कि US आग से खेलना बंद करे

ताइवान पर तनातनी क्यों?
चीन वन-चाइना पॉलिसी के तहत ताइवान को अपना हिस्सा मानता है, जबकि ताइवान खुद को एक स्वतंत्र देश की तरह देखता है। चीन का लक्ष्‍य ताइवान को उनकी राजनीतिक मांग के आगे झुकने और चीन के कब्‍जे को मानने के लिए ताइवान को मज‍बूर करने का रहा है।

इधर, अमेरिका भी वन चाइना पॉलिसी को मानता है, लेकिन ताइवान पर चीन का कब्जा नहीं देख सकता। बाइडेन ने 2 महीने पहले कहा था- हम वन चाइना पॉलिसी पर राजी हुए, हमने उस पर साइन किया, लेकिन यह सोचना गलत है कि ताइवान को बल के प्रयोग से छीना जा सकता है। चीन का ये कदम न केवल गलत होगा, बल्कि यह पूरे क्षेत्र को एक तरह की नई जंग में झोंक देगा।

चीन के खिलाफ ताइवान और अमेरिका भी तैयार
रिपोर्ट्स के मुताबिक, धमकियों के बाद अमेरिका और ताइवान की सेनाएं चीन से निपटने के लिए तैयारी कर चुकी हैं। अमेरिकी नेवी के 4 वॉरशिप हाईअलर्ट पर हैं और ताइवान की समुद्री सीमा में गश्त कर रहे हैं। इन पर एफ-16 और एफ-35 जैसे हाईली एडवांस्ड फाइटर जेट्स और मिसाइलें मौजूद हैं। रीपर ड्रोन और लेजर गाइडेड मिसाइलें भी तैयार हैं। अगर चीन की तरफ से कोई हिमाकत की गई तो अमेरिका और ताइवान उस पर दोनों तरफ से हमला कर सकते हैं।

कहा जा रहा है कि चीन ने कार्रवाई के लिए लॉन्ग रेंज हुडोंग रॉकेट और टैंक तैयार रखे हैं। उसके पास ताइवान स्ट्रेट में दूसरे मिलिट्री इंस्टॉलेशन्स भी हैं। इनका इस्तेमाल वो कर सकता है। अमेरिकी फौज की इन हरकतों पर पैनी नजर है। USS रोनाल्ड रीगन वॉरशिप और असॉल्ट शिप हाईअलर्ट पर हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement