ड्रैगन की US में जासूसी करने की साजिश नाकाम: व्हाइट हाउस पर नजर रखने अमेरिका में पगोडा बना चाहता था चीन; FBI ने रोका

0
51


  • Hindi News
  • International
  • China Was Building Pagodas In America; Used To Keep An Eye On Other Buildings Including The White House

वाशिंगटन13 मिनट पहलेलेखक: रोहित शर्मा

  • कॉपी लिंक

चीन की ओर से अमेरिका में जासूसी करने की साजिश नाकाम हो गई है। चीन एक बगीचा विकसित कर उसमें पगोडा (मठ या गुंबद) बनाकर जासूसी करना चाह रहा था, लेकिन अमेरिकी खुफिया एजेंसी FBI ने वक्त रहते उसे रोक दिया।

दरअसल, चीन ने साल 2017 में अमेरिका के सामने 10 करोड़ डॉलर (करीब 700 करोड़ रुपए) खर्च कर एक बगीचा और पगोडा बनाने का प्रस्ताव रखा था। इसके लिए नेशनल अर्बोरेटम नाम की जगह तय की गई थी। यह अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय व्हाइट हाउस समेत अन्य सरकारी भवनों से 8 किलोमीटर दूर थी।

चीन पगोडा की ऊंचाई की वजह से दूर तक नजर रखना चाहता था। वॉशिंगटन के स्थानीय प्रशासन ने भी इसकी मंजूरी दे दी थी पर FBI ने चीन के इरादों को भांपते हुए प्रस्ताव रद्द कर दिया।

चीन ने मोबाइल टॉवर पर डिवाइस लगा जासूसी की
बता दें कि चीन ने अमेरिका में अपने हुवेई के डिवाइस से भी जासूसी करने की कोशिश की है। FBI की जांच में सामने आया कि चीन ने मोबाइल टॉवर्स पर हुवेई के जासूसी डिवाइस लगाने की साजिश रची थी। इनसे मिडवेस्ट के सैन्य ठिकानों की जासूसी की जा सकती थी। ये डिवाइस ओबामा के दौर में लगने शुरू हो गए थे।

चीन ने अमेरिका के ग्रामीण इलाकों को टारगेट बनाते हुए वहां अपने डिवाइस लगाए थे। जैसे ही चीन इन्हें सैन्य ठिकानों की ओर बढ़ाने लगा, खुफिया एजेंसियों की इस पर नजर गई। उन्होंने इस पर तुरंत कार्रवाई की। 2020 में अमेरिकी संसद ने ग्रामीण इलाकों से उपकरण हटाने के लिए 15 हजार करोड़ रुपए मंजूर किए थे।

सेना के गुजरने के रास्ते पर लगे हैं चीनी डिवाइस
FBI के एजेंट अभी हुवेई के सस्ते उपकरणों पर नजर रख रहे हैं। इनमें से ज्यादातर कोलोराडो, मोंटाना और नेब्रास्का में बेचे गए या लगाए गए। इन्हें उन्हीं स्थानों पर लगाया है, जो आई-25 राजमार्ग से जुड़े हैं। इसी राजमार्ग से अमेरिकी सेना के कुछ खुफिया ठिकाने भी जुड़े हैं। एक अमेरिकी अधिकारी के मुताबिक, उन्होंने 2019 में यूटा में लगे कुछ उपकरणों को हटा दिया था।

खबरें और भी हैं…



Source link