जुलाई में बारिश का 17 साल का रिकॉर्ड टूटा: पिछले महीने सामान्य से 17% ज्यादा बारिश; केरल के 7 जिलों में आज ऑरेंज अलर्ट

0
12
Advertisement


  • Hindi News
  • National
  • Monsoon Weather Update; Orange Alert In Kerala, UP Bihar Monsoon Update, Madhya Pradesh, Andhra Pradesh, Himachal, Kerala, Monsoon Latest News

नई दिल्ली/रायपुर/जयपुर/रांची44 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

देश के कई राज्यों में अभी भी बारिश का दौर जारी हैा जुलाई में देश में 17% ज्यादा बारिश हुई, जो 17 साल में सबसे ज्यादा है। इससे पहले जुलाई 2005 में 18% ज्यादा बारिश हुई थी। इधर, देश के पूर्वी और पूर्वोत्तर राज्यों में जुलाई में 44.7% कम बारिश हुई है, जो 122 साल में सबसे कम है।

वहीं पिछले महीने कम बारिश का सबसे ज्यादा असर प. बंगाल, बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में देखने को मिला तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और कर्नाटक में पिछले महीने सामान्य से 60.4% ज्यादा बारिश हुई। गुजरात, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ में जुलाई में 42% ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की गई, जो 1994 के बाद सबसे ज्यादा है।

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा, मंडी जिलों में पिछले 24 घंटो में भारी बारिश हुई है। राज्य में लैंडस्लाइड और बाढ़ ने लोगों की मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। मौसम विभाग ने मंगलवार को उत्तराखंड के कई जिलों में हल्की तो कई जिलों में भारी बारिश की संभावना जताई है। वहीं अगले दो महीनों में पूर्वोत्तर में बारिश की कमी दूर होने की संभावना हैा

उधर, केरल के कन्नूर जिले के कई इलाकों में लोगों को जलभराव का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्र में भारी बारिश 01.08 के कारण 7 जिलों में रेड अलर्ट और 2 जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। दक्षिणी जिलों में भी भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। बारिश से अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं दक्षिण कन्नड़ के सुब्रमण्य गांव में भारी बारिश के कारण एक घर की दीवार गिरने से दो नाबालिगों की मौत हो गई।

देश में सोमवार को हुई बारिश का हाल आप इस मैप के जरिए समझ सकते हैं…

पूर्वी UP के 25 जिलों में आज भारी बारिश
यूपी में मानसून एक्टिव है। बीते 24 घंटे में प्रदेश के 16 जिलों में तीन सेमी से अधिक बारिश हुई है। एक जून से अब तक 235.1 मिमी बारिश रिकॉर्ड हुई, जो सामान्य से 124.9 मिमी कम है। अगस्त में अच्छी बारिश की उम्मीद है। सात अगस्त के बाद प्रदेश में आंधी-तूफान के साथ बारिश की गतिविधियां देखने को मिल सकती हैं।

पिछले 24 घंटे: बीते 24 घंटे में प्रदेश में 9.5 मिली मीटर बारिश हुई, जो अनुमान से 3% ज्यादा है। न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस तो अधिकतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। कानपुर में कई जगहों पर जल भराव हो गया है। वाराणसी में गंगा का जल स्तर काफी बढ़ गया है। सभी 84 घाट जलमग्न हो चुके हैं और घाटों का आपसी संपर्क पहले ही टूट चुका है।

अगले 24 घंटे: राजधानी लखनऊ में आंशिक बादल छाए रहेंगे। एक या दो बार मामूली बरसात हो सकती है। गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, बहराइच, श्रावस्ती, गोंडा, बाराबंकी, अयोध्या, अमेठी, सुल्तानपुर, रायबरेली, अंबेडकरनगर, प्रयागराज, भदोही, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीरनगर, आजमगढ़, जौनपुर, वाराणसी, गाजीपुर, मऊ, बलिया में बारिश का अलर्ट है। इन जगहों पर आज 5 मिमी से अधिक हो सकती है।

बिहार में बारिश का 24 घंटे का अलर्ट
बिहार में मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे के लिए अलर्ट जारी किया है। इसमें पूरे बिहार में अच्छी बारिश की संभावना जताई है। विभाग ने बादल के गरजने के साथ वज्रपात का भी अलर्ट जारी किया है। पश्चिमी चंपारण,पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सीवान, सारण, सीतामढ़ी, शिवहर, मुजफ्फरपुर, वैशाली, मधुबनी, दरभंगा, समस्तीपुर, सुपौल, सहरसा ,अररिया, मधेपुरा, पूर्णिया, कटिहार और किशनगंज में मूसलाधार बारिश की संभावना जताई गई है।

वही मध्यम दर्जे की बारिश वाले जिले में पटना, जहानाबाद, नालंदा, बेगूसराय, लखीसराय, शेखपुरा, नवादा, गया,अरवल, भोजपुर, बक्सर, रोहतास, कैमूर, खगड़िया, मुंगेर, जमुई, भागलपुर, बांका और औरंगाबाद हैं।

राजस्थान: बुधवार से मानसून फिर ऐक्टिव हो सकता है।
राज्य में जुलाई में ही कोटे की 67% बारिश हो चुकी है। मौसम विभाग के मुताबिक बुधवार को प्रदेश में मानसून के फिर से ऐक्टिव होने की संभावना है। इसके तहत अगस्त-सितंबर में भी मानसून कुछ काे हिस्सों को छोड़कर बाकी जगहों में भारी बारिश की संभावना है। प्रदेश के दक्षिण-पश्चिमी जिले जालौर, सिरोही, बाड़मेर, बारां, झालावाड़ में थाेड़ी कम बारिश हाेने का अनुमान है, लेकिन बाकि जिलाें में मानसून औसत या इससे भी ज्यादा बरसने की संभावना है। खास बात है कि इस दाैरान दिन और रात का तापमान सामान्य से अधिक रहने का अनुमान है।

माैसम विभाग के मुताबिक राजस्थान सहित उत्तर-पश्चिमी भारत के अधिकांश हिस्सों में सामान्य से लेकर सामान्य से अधिक बारिश होने की संभावना है। अब तक प्रदेश में औसत से 31.4% ज्यादा बारिश हाे चुकी है। औसत बारिश का आंकड़ा 270.69 मिमी है जबकि अब तक 355.72 मिमी हो चुकी है। इनमें से 24 जिलाें में सामान्य से अधिक बारिश हुई, जबकि 9 जिलाें में मानसून सामान्य रहा है।

झारखंड में रांची समेत कई जिले सूखे
झारखंड में मॉनसून आए करीब डेढ़ माह हो चुके हैं, लेकिन रांची समेत राज्य के अधिकतर जिले सुखाड़ की ओर बढ़ रहे हैं। इसकी वजह यह है कि बंगाल की खाड़ी में मजबूत निम्न दबाव नहीं बन रहा है। जून और जुलाई में कम बारिश की वजह यही रही।

रांची में अभी सामान्य से 43 प्रतिशत कम बारिश हुई। रांची में इस बार जुलाई में जहां एक दिन में सर्वाधिक बारिश 50.8 मिमी दर्ज किया गया, वहीं पिछले साल जुलाई में एक दिन में 200 मिमी से ज्यादा बारिश हुई थी

अब मैप के जरिए समझिए कि अगले चार दिन तक देश में मौसम की स्थिति क्या रहेगी…

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement