जुआरी पति, प्लेबॉय प्रेमी से परेशान थीं रुआन लिंग्यू: मौत पर इतने फैन्स पहुंचे कि 8 दिन अस्पताल में रखनी पड़ी डेडबॉडी

0
10


17 मिनट पहलेलेखक: ईफत कुरैशी

GOSSIP IS A FEARFUL THING.

गॉसिप बहुत डरावनी चीज है…।

ये लाइन थी उस सुसाइड नोट की जिसे लिखा था रुआन लिंग्यू ने। 1930 के दशक में चीन की आइकॉनिक एक्ट्रेस रहीं रुआन लिंग्यू अपनी निजी जिंदगी के बारे में अखबारों में छप रहे गॉसिप्स से इतनी परेशान थीं उन्होंने जान देना बेहतर समझा। अपने सुसाइड नोट में उन्होंने इसका जिक्र भी किया।

रुआन ने 24 साल की उम्र में खुदकुशी कर ली। इस छोटी उम्र में वो इतनी सफल एक्ट्रेस बन चुकी थीं कि इनके मौत की खबरें आने के बाद दर्जनों फैंस ने भी जान दे दी। फैंस का वो हुजूम हास्पिटल के बाहर लगा कि 8 दिन तक डेडबॉडी को वहीं रखना पड़ा। जब शवयात्रा निकली तो उसमें 3 लाख लोग थे। अमेरिका के अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने उस दिन इसके बारे में लिखा था – फ्यूनरल ऑफ दी सेंचुरी।

रुआन लिंग्यू की छोटी सी जिंदगी बड़े संघर्षों से गुजरी। बचपन में पिता गुजरे, मां दूसरे घरों में काम करके गुजारा करती थीं। जब शादी की तो पति जुआरी निकला। उसे भी छोड़ना पड़ा। किसी और से प्यार हुआ तो वो रिश्ता भी दर्दभरा ही रहा। बस कहीं सुकून था तो वो एक्टिंग में था। जिसमें वो माहिर थी। लोग भी उसकी कलाकारी के दीवाने थे।

आज अनसुनी दास्तानें में बात चीन की सबसे आइकॉनिक एक्ट्रेस रुआन लिंग्यू की, जिसकी निजी जिंदगी पर छपी खबरें उसके लिए जानलेवा बन गईं।

पिता बचपन में गुजर गए, मां थी नौकरानी

रुआन लिंग्यू का जन्म 26 अप्रैल 1910 को शंघाई (चीन) में हुआ। इनके जन्म के कुछ समय बाद ही बड़ी बहन का निधन हो गया। ये वो समय था जब चीन के हालात बद से बद्तर थे। 250 सालों तक चीन में राज करने वाले किंग राजवंश का अंत हुआ था और सरकार बन रही थी। रुआन की मां एक हाउस वाइफ थीं और पिता पेट्रोलियम कंपनी में मामूली कर्मचारी। एक दिन कंपनी में काम करते हुए हादसे में रुआन के पिता का निधन हो गया, उस समय वो महज 6 साल की थीं।

घर और इकलौती बेटी की जिम्मेदारी रुआन की मां ने उठाई और घर-घर जाकर काम करने लगीं। रुआन का बचपन ज्यादातर घर में मां का इंतजार करते हुए या उन पर अमीरों के जुल्म देखते हुए गुजरा। मां ने जब रुआन को स्कूल भेजा तो हिदायत दी कि वो किसी को ये ना बताएं कि उनकी मां एक नौकरानी है। डर था कि रुआन का मजाक उड़ाया जाएगा, क्योंकि ये एक निचले तबके का पेशा था।

अखबार में इश्तिहार देखकर लिया 15 साल की रुआन ने हीरोइन बनने का फैसला

1895 में चीन में मोशन पिक्चर की शुरुआत हुई और 1905 से यहां फिल्में बनना शुरू हो गईं। साइलेंट फिल्मों का दौर चल रहा था। चीन की मिंगझिंग नई फिल्म कंपनी बनी थी, जिसे कलाकारों की जरूरत थी। 1926 में कंपनी ने एक हीरोइन की तलाश में अखबार में इश्तिहार दिया। तंगहाली से परेशान रुआन अखबार पढ़ते ही स्टूडियो पहुंच गईं और उन्हें चुन लिया गया।

1930 में चीन की स्टार बन गई थीं रुआन

पहली फिल्म की पॉपुलैरिटी के बाद साल 1928 में रुआन लिंग्यू को 6 बड़ी फिल्में मिलीं। रुआन को पॉपुलैरिटी स्प्रिंग ड्रीम इन ओल्ड कैपिटल (1930) से मिली। ये चीन की शुरुआती कामयाब फिल्मों में से एक है। फिल्मों में आकर रुआन फैंगेन, रुआन लिंग्यू बन गईं। इसी साल रुआन ने नए प्रोडक्शन हाउस लियानहुआ स्टूडियो के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन कर बड़ा रिस्क लिया। इस प्रोडक्शन हाउस की पहली फिल्म में रुआन ने एक वेश्या का रोल प्ले किया जिसका नाम यानयान था। रुआन इस प्रोडक्शन और पूरे चीन की स्टार बन गईं।

दूसरी सबसे कामयाब एक्ट्रेस, मूवी क्वीन का दर्जा

1931 में लव एंड ड्यूटी जैसी फिल्में करते हुए रुआन लिंग्यू एक स्टार बनकर उभरीं। 1933- द स्टार डेली मैगजीन ने देश का पहला पब्लिक पोल किया। चीन के लोगों द्वारा वोट हासिल कर ये दूसरी मूवी क्वीन बनीं। पहले नंबर पर हु डाय रहीं और तीसरे नंबर पर चेन यूमी थीं। थ्री मॉडर्न वुमन (1932) से रुआन ने लेफ्टिस्ट चाइनीज डायरेक्टर्स के साथ काम करना शुरू किया। 1934 में रिलीज हुई द गोडेस रुआन के करियर की सबसे बेहतरीन फिल्म मानी जाती है, जिसमें उन्होंने एक विधवा का रोल प्ले किया, जो बेटे की परवरिश के लिए वेश्यावृत्ति में कदम रखती है।

जुआरी से शादी और फिर रंगीन मिजाज बिजनेस टायकून से रिश्ता

रुआन की मां जिस अमीर घर में काम किया करती थीं, उनके चौथे बेटे झांग दामिन से रुआन प्यार करने लगी थीं। झांग एक जुआरी था, जिसके बिगड़ैल होने पर उसे घर से बेदखल कर दिया गया था। रुआन एक स्टार थीं, जो अपने खर्च पर झांग के जुए का शौक भी पूरा करती थीं। दोनों ने शादी भी की और एक बेटी नन्नन को गोद लिया। झांग के लगातार बिगड़ते रवैये के कारण रुआन उनसे अलग हो गईं। झांग को छोड़ने के बाद रुआन का रिश्ता बिजनेस टाइकून टैंग जिशान से रहा, जो अपनी रंगीन मिजाजी के कारण बदनाम था।

कानूनी लड़ाई और बेवफाई का बुरा असर

साल 1934 में रुआन और टैंग के रिश्ते से नाराज होकर झांग ने उन पर केस कर दिया। आरोप लगाए कि रुआन का शादीशुदा होने के बावजूद टैंग से अफेयर है, साथ ही रुआन पर चोरी के भी आरोप लगे। अगले साल झांग ने फिर रुआन पर संगीन आरोप लगाए और उन्हें कोर्ट तक खींचा। इस समय रुआन अपने बॉयफ्रेंड टैंग के साथ रहती थीं, लेकिन उसका भी दूसरी एक्ट्रेस लिआंग साइजेन से अफेयर था।

अखबारों में खूब उछाली गई रुआन की प्राइवेट लाइफ

कोर्ट केस के चलते रुआन की प्राइवेट लाइफ गॉसिप का टॉपिक बन चुकी थी। पूर्व पति रोजाना इंटरव्यू में रुआन के खिलाफ बोलता था और पर्सनल बातें साझा करता था। अखबारों की ज्यादातर खबरें इनके अफेयर और विवादित लाइफ के नाम होने लगीं। विवादों और गॉसिप का असर रुआन पर गहरा पड़ा।

मौत से पहले ही शूट किया था सुसाइड सीन

1935 में रिलीज हुई रुआन की न्यू वुमन फिल्म खूब चर्चाओं में रही। ये उनकी सेकेंड लास्ट फिल्म थी। कई लोगों का दावा था कि ये फिल्म रुआन की जिंदगी पर आधारित थी, क्योंकि जिस एक्ट्रेस आई झिया पर ये फिल्म बनी थी, उसने भी गॉसिप से परेशान होकर मौत को गले लगाया था।

इस फिल्म में डेथ सीन का रुआन पर बुरा असर पड़ा। नींद की गोलियां खाकर मरने का सीन शूट करते हुए जो एक्सप्रेशन रुआन ने दिए वो देखकर हर कोई हैरान था। सबको लगा मानों रुआन असल में स्लीपिंग पिल्स खाकर जान दे रही हैं।

पहले भी मरने की कोशिश कर चुकी थीं रुआन

शूट खत्म होते ही रुआन खूब रोईं, सेट पर शांत माहौल था, जैसे असल में किसी ने आत्महत्या की हो। सेट पर को-स्टार ली लिली भी मौजूद थीं। उन्होंने रुआन से पूछा कि आखिर तुम ये सीन शूट करते हुए ऐसा क्या सोच रही थी। रुआन ने कहा, मेरी जिंदगी भी ऐसी ही है, फर्क बस इतना है कि मैं जिंदा हूं। जब मैंने पहले सुसाइड की कोशिश की थी तब मेरे मन में जो ख्याल आए थे, उन्हें ही दोहरा रही थी। उस एक सेकेंड में आप बहुत कन्फ्यूज महसूस करते हो। कभी लगता है कि आप खुद को जिंदगी के हर दुख से आजाद कर रहे हो तो कभी लगता है आप खुद को तकलीफ दे रहे हो। कई लोगों के चेहरे मेरी आंखों के सामने आ रहे थे, कुछ ऐसे जिनसे प्यार किया, कुछ ऐसे जिनसे नफरत थी।

24 साल में खुद को दर्दनाक मौत देकर लिखा- गॉसिप बहुत डरावनी चीज है

7 मार्च 1935। रुआन को केस की सुनवाई के लिए 8 मार्च को कोर्ट में पेश होना था, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। रात को खाने के साथ रुआन ने तीन शीशी नींद की गोलियां खा लीं। वो तड़पती रहीं, घर में मौजूद लोग उन्हें सिनो फॉरेन हॉस्पिटल ले गए, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया।

8 मार्च को चीन की गोडेस और मूवी क्वीन रुआन महज 24 साल की उम्र में दुनिया छोड़ गईं। उस समय घर में उनका प्रेमी मौजूद था, जिसे एक सुसाइड नोट मिला था। उसमें लिखा था- गॉसिप बहुत डरावनी चीज है।

जब मैं मरूंगी तो लोगों को लगेगा कि मैंने ऐसा शर्मिंदगी में किया, लेकिन मेरा जुर्म क्या है, जिससे मुझे शर्मिंदगी होनी चाहिए। मैंने कभी झांग दामिन (पूर्व पति) के साथ कुछ गलत नहीं किया, किसी भी तरह से नहीं। यहां तक कि जब हम अलग हुए तो अगले महीने मैंने उसे 100 युआन (चाइनीज करेंसी) दिए।

मैं इसे उछालना नहीं चाहती। मेरे पास इसका सबूत और सारी रसीदें हैं, लेकिन उसने मेरे एहसान का जवाब बदले से दिया, दया का जवाब आक्रोश से दिया। बाहरी दुनिया ये नहीं जानती। उसने लोगों को ये यकीन दिलाया कि मैंने गलत किया है।

तो अब मैं क्या कर सकती हूं। मैंने बहुत सोचा, लेकिन अब सुसाइड ही इसे खत्म कर सकता है।

काश, अगर मैं मरूं तो कोई अफसोस नहीं होगा, लेकिन गॉसिप एक डरावनी चीज है। मुझे अब भी डर है कि लोग बातें करेंगे।

मैं बिना मरे अपनी मासूमियत साबित नहीं कर सकती। अब क्योंकि मैं मर रही हूं उसके पास रास्ता होगा। हालांकि उसने मुझे खुद नहीं मारा, लेकिन मैं उसकी वजह से मर रही हूं। अब देखते हैं कि झांग दामिन इससे कैसे निकलेंगे। तुमने मुझे मौत तक भेज दिया तो अब तुम टैंग जिशान को फंसा सकते हो।

– रुआन लिंग्यू के आखिरी शब्द, 7 मार्च 1935

मौत के बाद प्रेमी ने लिखा फर्जी सुसाइड नोट

रुआन की मौत के बाद दो सुसाइड नोट कई अखबारों में छपे। एक जो आपने ऊपर पढ़ा और दूसरा जो रुआन के बॉयफ्रेंड टैंग ने पब्लिश करवाया था। पुलिस जांच में सामने आया कि दूसरा सुसाइड नोट फर्जी था। दरअसल, दूसरा सुसाइड नोट छापने वाले एक पब्लिकेशन के एडिटर ने ये दावा किया कि वो नोट रुआन के बॉयफ्रेंड टैंग जिशान ने अपनी गर्लफ्रेंड की बहन से लिखवाया था, जिसकी हैंडराइटिंग रुआन से मिलती थी। उस नोट में ऐसा दर्शाया गया था कि रुआन ने टैंग से माफी मांगी है, हालांकि वो फर्जी था।

असल सुसाइड नोट मिला तो हुआ हैरान कर देने वाला खुलासा

फर्जी सुसाइड नोट सामने आने के कुछ समय बाद जांच में रुआन द्वारा टैंग जिशान को लिखा गया एक नोट मिला। उस नोट में रुआन ने खुलासा किया था कि टैंग उनके साथ मारपीट करते थे। रुआन ने लिखा था कि अगर मौत की रात टैंग उनसे मारपीट नहीं करता तो शायद वो जिंदा होतीं। आगे वो नोट पढ़िए-

जिशान,

अगर आप एक पब्लिकेशन के साथ मिले हुए नहीं होते या अगर आप उस शाम मुझे नहीं मारते और आज ये नहीं दोहराते तो शायद आज मैं जिंदा होती। मेरी मौत के बाद लोग आपको शैतान और एक प्लेबॉय कहेंगे। इससे भी ज्यादा लोग मुझे एक आत्माहीन महिला कहेंगे, लेकिन तब तक मैं इस दुनिया से रुख्सत हो जाऊंगी। तुम अकेले प्रताड़ित होते रहोगे।

झियुन (टैंग जिशान की पूर्व गर्लफ्रेंड), मुझे यकीन है कि तुम समझ चुकी थीं कि टैंग आगे क्या बनेगा। जब मैं मर जाऊंगी तो तुम से नफरत करने का साहस नहीं करूंगी। आशा है कि तुम मेरी मां और नन्नन (गोद ली हुई बेटी) का ख्याल रखोगी।

लियानहुआ से मुझे 2050 युआन (चाइना की करेंसी) लेना है। प्लीज उन पैसों से मां का ख्याल रखना। वो अब सिर्फ तुम पर निर्भर हो सकते हैं। मेरे बिना तुम अब जो चाहो करो। मैं बहुत खुश हूं।

– रुआन लिंग्यू, 7 मार्च 1935

फैंस की भीड़ ऐसी कि एक हफ्ते तक नहीं हो सका अंतिम संस्कार

रुआन लिंग्यू का शव वांग्यो फ्यूनरल होम में रखा गया था। देखने वालों की भीड़ ऐसी थी कि करीब 8 दिन तक उनका अंतिम संस्कार नहीं हो सका।

अंतिम दर्शन में पहुंचे 3 लाख लोग

14 मार्च 1935। रुआन लिंग्यू के अंतिम दर्शन के लिए करीब 3 लाख लोग पहुंचे, जिनकी भीड़ 4.8 किलोमीटर तक थी। इसी दिन कई फैंस ने ये कहते हुए आत्महत्या कर ली कि जब रुआन ही नहीं है तो हम किसके लिए जिंदा रहेंगे। न्यूयॉर्क टाइम्स ने इसे सदी का सबसे बड़ा अंतिम संस्कार बताया।

रुआन की मौत के 40 साल बाद फिल्म हिस्टोरियन जे लेडा ने अपनी बुक इलेक्ट्रिक शैडोः एन अकाउंट ऑफ फिल्म में रुआन की ट्रेजिक लाइफ का जिक्र किया।

1930 के दशक की ये सबसे कामयाब एक्ट्रेस रहीं, जिन्हें कई तरह की स्टडीज का सब्जेक्ट बनाया गया। इन पर दो टेलीविजन सीरीज बन चुकी हैं। डायरेक्टर स्टैनली क्वान ने 1991 में रुआन लिंग्यू पर बायोपिक बनाई थी।

ऐसी ही हस्तियों की ये अनसुनी दास्तानें और पढ़ें…

8 साल तक तानाशाह की कैद में रहीं:पति के अफेयर और दो बच्चों के बारे में अखबार से पता चला तो तलाक लिया

1940 के दशक में विभाजन की त्रासदी से गुजर रहे कोरिया में एक ही खूबसूरत बात हुई जिसका नाम था चोई इयुन-ही। चोई इयुन-ही कोरिया की वो एक्ट्रेस रहीं, जिसने पूरे कोरियाई सिनेमा की नींव रखी। वे पैदा तो साउथ कोरिया में हुईं लेकिन उनके दीवानों में नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग इल (किम जोंग उन के पिता) भी शामिल थे। किम जोंग ने चोई इयुन-ही को धोखे से किडनैप तक करवा लिया। 8 साल तक उन्हें अपनी कैद में रखा और फिल्में बनवाते रहे। इतना ही नहीं, जिस धोखेबाज पति को चोई इयुन-ही तलाक दे चुकी थीं, उसी से किम जोंग इल ने फिर उनकी शादी करवा दी।

चोई की पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सबसे महंगी सिंगर-एक्ट्रेस थीं कानन देवी:रिश्तेदारों ने निकाला तो कभी दूसरे के घर में नहीं रहीं, पतियों को भी अपने घर में रखा

एक छोटी बच्ची जिसकी मां को रिश्तेदारों ने एक चीनी की प्लेट टूट जाने पर इतना जलील किया कि उसे मां को लेकर रिश्तेदारों का वो घर छोड़ना पड़ा। वहां उनकी औकात नौकरों से ज्यादा नहीं थी। इस बच्ची ने रिश्तेदारों का ये रवैया देखकर ठान लिया था कि अब भूखे मर जाना है, लेकिन किसी के घर में पनाह नहीं लेनी।

7 साल की ये बच्ची फिर ताउम्र अपनी इसी बात पर कायम भी रही, इतनी कायम कि शादी के बाद पति के घर नहीं गईं, उन्हें अपने घर में रखा। हम बात कर रहे हैं सेल्फ रिस्पेक्ट की मिसाल कही जाने वाली कानन देवी की।

कानन देवी की पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें-

गाने के लिए प्राइवेट ट्रेन में जाती थीं गौहर जान:सोने की 101 गिन्नियां लेकर ही शुरू करती थीं गाना, देश में पहला रिकॉर्डेड गाना इन्हीं का

गौहर जान…ये नाम है उस तवायफ का है जिसे भारतीय संगीत का नक्शा बदला। इनकी रईसी का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि देश में जब सोना 20 रुपए तोला बिकता था, तब ये एक गाना गाने की फीस 3000 रुपए लेती थीं। ये इतनी बड़ी रकम थी कि ब्रिटिश हुकूमत ने इन्हें फीस कम करने की चेतावनी तक दे डाली, फिर भी ये अपनी शर्तों पर कायम रहीं। महात्मा गांधी भी इनसे आर्थिक मदद ले चुके हैं।

गौहर जान की पूरी दास्तान जानने के लिए यहां क्लिक करें-

MKT जिसके पैर की धूल को विभूति मानते थे फैन:इनकी कार के पहियों के निशान भी पूजते थे लोग, जर्नलिस्ट मर्डर केस में हुई थी उम्रकैद

ये तमिल सिनेमा के पहले सुपरस्टार थे। MKT साल 1934 में तमिल सिनेमा में आए, कुल 14 फिल्में कीं। लेकिन लोगों में दीवानगी का आलम ऐसा था कि इनकी कार जहां से गुजर जाए, उसके पहियों के निशान की लोग पहले पूजा करते, फिर वो धूल घर ले जाते थे। इनको देखने भर के लिए ट्रेन रुकवा दी जाती थीं।

सोने की थाली में खाना खाने वाले MKT की पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Reference-

https://offscreen.com/view/The_Tragic_Life_and_Career_of_Ruan_Lingyu

https://www.bbc.com/culture/article/20171025-ruan-lingyu-the-greta-garbo-of-china

https://www.thatsmags.com/shanghai/post/12711/this-day-in-history-the-funeral-of-ruan-lingyu

https://www.theglassmagazine.com/article-silent-film-actress-ruan-lingyu/

https://www.historic-shanghai.com/selling-the-ruan-lingyu-drama-tragedy-irony-and-exploitation-in-a-1934-ad/



Source link