जिम्बाब्वे में महंगाई से लोग परेशान: बैंकों में रखने के बजाय गाय-भैंसों में लगा रहे हैं पैसा, एक्सपर्ट ने इसे सोने से बेहतर बताया

0
42


  • Hindi News
  • International
  • Instead Of Keeping It In Banks, We Are Investing Money In Cows And Buffaloes, Experts Told It Better Than Gold

हरारे25 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जिम्बाब्वे में अर्थव्यवस्था की खस्ता हालत ने लोगों के निवेश का नजरिया ही बदल दिया है। यहां लोग अपना पैसा बैंकों में रखने की बजाय गायों और भैंसों में निवेश करना पसंद कर रहे हैं। निवेश के ट्रेंड में बदलाव का एक बड़ा कारण देश में बढ़ती महंगाई भी है। पिछले 20 सालों में कई लोग अपनी जमापूंजी और पेंशन बैंकों में खो चुके हैं।

बीते जून में भी यहां महंगाई दर रिकॉर्ड 192% दर्ज की गई थी। बैंकों में पैसा रखने से उनकी जमा पूंजी में भी गिरावट आ रही है, इसलिए बैंकों से लोगों का भरोसा उठ गया है। इस कारण कुछ लोग अपने निवेश को बचाने के लिए सुरक्षित उपाय ढूंढ रहे हैं और मवेशियों में निवेश उनके लिए फायदेमंद साबित हो रहा है।

जिम्बाब्वे में जीडीपी का 35% से 38% हिस्सा मवेशी आधारित क्षेत्र से आता है
एक्सपर्ट भी इसे सोने से बेहतर विकल्प बता रहे हैं। खास बात ये है कि कुछ समय पहले ही सरकार ने सोने के सिक्के लॉन्च किए थे। उन सिक्कों को खरीदने में लोगों की रुचि नहीं है। बता दें कि जिम्बाब्वे में जीडीपी का 35% से 38% हिस्सा मवेशी आधारित क्षेत्र से आता है। दक्षिण अफ्रीकी के इस देश में अपनी जमापूंजी को बढ़ाने के लिए मवेशियों में निवेश की पुरानी परंपरा रही है।

टेड एडवर्ड्स सिल्वरबैंक एसेट मैनेजर्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। मजाक में कुछ लोग इनकी कंपनी को रंभाती बैंक भी कहते हैं। यह एक यूनिट ट्रस्ट है जो मवेशियों पर आधारित है। एडवर्ड्स का कहना है, गायें कुछ लोगों के लिए सुरक्षित विकल्प हैं। एडवर्ड्स की कंपनी ने एक यूनिट ट्रस्ट इनवेस्टमेंट फंड बनाया है।

शेयर मार्केट की तरह मवेशियों पर निवेश में भी जोखिम
लोकल करेंसी का इस्तेमाल कर गायों के इनवेस्टमेंट फंड में लोग निवेश कर रहे हैं। पशुओं में निवेश भी खतरे से खाली नहीं है। बैंकों में रखा पैसा मुद्रास्फीति के कारण बेकार हो सकता है, उसी तरह सूखा पड़ने या बीमारी फैलने पर पशुओं में निवेश बर्बाद हो सकता है।

खबरें और भी हैं…



Source link