गणेश भक्त मुस्लिम महिला के खिलाफ फतवा: अलीगढ़ में भाजपा नेता सालों से कर रहीं स्थापना, फतवे पर कहा- मौलाना नहीं जिहादी हैं

0
30


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Aligarh
  • In Aligarh, A Muslim Leader Has Seated Ganpati At Home, After The Release Of The Fatwa, He Said, These People Are Not Maulana But Jihadi And Extremist

अलीगढ़6 मिनट पहले

अलीगढ़ में भाजपा नेता रूबी आसिफ खान के खिलाफ फतवा जारी हुआ है। शहर के मौलाना का कहना है कि दूसरे धर्म की इबादत करने वाले काफिर हैं। इस पर रूबी खान ने पलटवार किया। कहा, “जो मौलाना और मौलवी फतवा जारी कर रहे हैं, वे जिहादी और उग्रवादी हैं।”

रूबी ने 3 दिन पहले अपने घर पर गणेश प्रतिमा स्थापित की थी। इसके बाद ही विवाद शुरू हुआ। रूबी जयगंज मंडल महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष हैं। 31 अगस्त को वैदिक मंत्रों के साथ उन्होंने अपने घर में गणेश प्रतिमा स्थापित की थी। विधि-विधान से पूजा करने के बाद उन्होंने भगवान गणेश को लड्डू और मोदक का प्रसाद चढ़ाया था।

इस पर सहारनपुर के मौलवी मुफ्ती अरशद फारूखी ने सवाल उठाया था। सोशल मीडिया के जरिए उन्होंने पूछा था कि क्या इस्लाम उन्हें ऐसा करने की इजाजत देता है? इसके बाद से विवाद शुरू हो गया।

भाजपा नेता कई साल से अपने परिवार के साथ गणेश उत्सव मना रही हैं।

भाजपा नेता बोलीं- हर धर्म का सम्मान करती हूं
रूबी आसिफ खान ने शनिवार को मौलानाओं के बयान पर पलटवार किया। उन्होंने कहा, ”सच्चे मुसलमान इस तरह की बातें नहीं करते हैं। जो मौलाना और मौलवी फतवा जारी कर रहे हैं, वे खुद मुसलमान नहीं हैं। उनकी सोच देश को बांटने वाली है। वे हिंदुस्तान में रहकर भी अपनी सोच नहीं बदल पाए हैं।”

उन्होंने कहा, ”मैं जाति-धर्म का भेदभाव नहीं मानती हूं। देश की अखंडता और हिंदू-मुसलमान की एकता के लिए लगातार पूजा कर रही हूं। गुरुवार को प्रतिमा विसर्जित करने जाऊंगी। मेरी सोच एकता वाली है। हर धर्म का सम्मान करती हूं और सारे त्योहार मनाती हूं।”

रूबी ने बताया, ”ये लोग पहले भी मेरे खिलाफ फतवे जारी कर चुके हैं। इस्लाम से निकालने के लिए पोस्टर लगवाए गए थे। मुझ पर चाहे जितना भी दबाव बनाने की कोशिश की जाए, मैं अपने देश के लिए कुछ करना चाहती हूं। मैं किसी दबाव में नहीं आऊंगी। जो लोग ऐसा कर रहे हैं, वे देश का भला नहीं चाहते हैं।”

AMU के पूर्व प्रोफेसर मौलाना मुफ्ती जाहिद ने कहा कि खुदा के अलावा किसी की भी इबादत करने वाला मुसलमान नहीं है।

AMU के पूर्व प्रोफेसर मौलाना मुफ्ती जाहिद ने कहा कि खुदा के अलावा किसी की भी इबादत करने वाला मुसलमान नहीं है।

AMU के पूर्व प्रोफेसर बोले- खुदा को मानने वाला ही सच्चा मुसलमान
AMU के पूर्व प्रोफेसर और मौलाना मुफ्ती जाहिद ने कहा, ”जो अल्लाह के अलावा किसी और की इबादत करता है, वह मुसलमान नहीं है। इस्लाम में अल्लाह के अलावा किसी कब्र, नबी या किसी की भी इबादत करने की इजाजत नहीं है। कोई शख्स मुसलमान के घर में पैदाइश लेने से मुसलमान नहीं होता। इंसान को बालिग होने के बाद जो ईमान है, वो लाना पड़ेगा तभी मुसलमान होगा। एक खुदा को मानने वाला ही सच्चा मुसलमान है। अगर किसी मुस्लिम महिला ने गणेश की मूर्ति रखी है, तो ऐसे करने वाले काफिर हैं।”

ये फोटो सहारनपुर के मौलवी की है। 1 सितंबर को मौलवी ने सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर मुस्लिम भाजपा नेता पर सवाल उठाए थे।

ये फोटो सहारनपुर के मौलवी की है। 1 सितंबर को मौलवी ने सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर मुस्लिम भाजपा नेता पर सवाल उठाए थे।

सहारनपुर के मौलाना ने किया था विरोध
सहारनपुर के मौलाना मुफ्ती अरशद फारूखी ने 1 सितंबर को कहा था कि भगवान गणेश को हिंदू काफी पूजनीय मानते हैं। उनको ज्ञान के साथ-साथ सुख और समृद्धि देने वाला माना जाता है। मुफ्ती ने कहा था कि इस्लाम में मूर्ति पूजा नहीं होती है। इस्लाम में अल्लाह के अलावा किसी की पूजा नहीं की जाती है। जो लोग ऐसा कर रहे हैं, वे इस्लाम के खिलाफ हैं। ऐसा करने वालों के खिलाफ वही हुक्म जारी होता है, जो इस्लाम के खिलाफ जाने वालों के लिए है।



Source link