कैसे फैलता है मंकीपॉक्स, ये कोरोना महामारी से कितना अलग?

0
19
Advertisement


Monkeypox vs Covid 19 Facts: कोरोना संक्रमण के असर से जैसे ही दुनिया को राहत मिलने लगी और लोग अपने पुरानी लाइफस्टाइल (Lifestyle) में वापस लौटने लगे, वैसे ही एक बार फिर से कोविड मामले (Corona Cases) बढ़ने लगे. अब फिर से वही हाल हो रहा है कि एक दिन में कोरोना संक्रमण (Covid-19 infection) के कभी 15 हजार से अधिक तो कभी 20 हजार से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं. कोरोना की वैक्सीन (Corona vaccine) लगने के बाद और इस वायरस के कम प्रभावी होने के बाद भी अगर दुनिया राहत की सांस ले पाती तो मंकीपॉक्स ने दस्तक दे दी और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने खतरे की घंटी बताते हुए विश्व के सभी देशों को अलर्ट रहने का सुझाव दिया.

WHO ने 24 जुलाई को मंकीपॉक्स को ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दिया. मंकीपॉक्स भी कोरोना की तरह एक वायरल डिजीज है, जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में तेजी से संक्रमण फैलाती है. यूनाइटेड स्टेट की स्वास्थ्य एजेंसी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल द्वारा जारी आंकड़ों के आधार पर अभी तक दुनिया के 87 देशों में मंकीपॉक्स से संक्रमित मरीज मिल चुके हैं और इन मरीजों की संख्या 26 हजार 208 है. ये वो मामले हैं, जिनमें यह बीमारी कंफर्म हो चुकी है. जबकि कई रोगियों को सस्पेक्ट मानते हुए अभी उनकी जांच की जा रही है. भारत की बात करें तो देश में अब तक मंकीपॉक्स के 9 कंफर्म केस सामने आ चुके हैं.

मंकीपॉक्स और कोरोना संक्रमण में अंतर

  • कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के शरीर में आमतौर पर श्वांस के जरिए प्रवेश करता है. मेडिकल की भाषा में इसे एक्यूट रेस्पिरेट्री सिंड्रोम (acute respiratory syndrome) कहते हैं. जबकि मंकीपॉक्स ऑर्थोपॉक्सवायरस जीन्स (Orthopoxvirus genus) के जरिए फैलता है.
  • कोरोना वायरस श्वास के जरिए फैलता है और संक्रमित व्यक्ति की श्वांस से निकली हुए ड्रॉपलेट्स जो वायरस से संक्रमित होती हैं, किसी अन्य व्यक्ति के शरीर में जाकर उसे भी संक्रमित कर सकती हैं. आमतौर पर यह वायरस किसी भी व्यक्ति के शरीर में श्वांस के माध्यम से ही प्रवेश करता है. संक्रमित व्यक्ति द्वारा उपयोग किए गए तौलिया या अन्य सामान का उपयोग करने पर यदि वायरस नाक और मुंह पर लग जाता है, तब भी यह संक्रमण फैला सकता है.
    सं क्रमण फैला सकता है.
  • जबकि मंकीपॉक्स का वायरस इंसानों में आमतौर पर जानवरों के संपर्क में आने पर फैलता है. जब कोई व्यक्ति संक्रमित जानवर का स्पर्श करता है या ऐसे जानवर का मीट खाता है, तब वह इस संक्रमण का शिकार हो सकता है. हालांकि इसके बाद यह संक्रमण एक से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैल सकता है.
  • कोरोना का वायरस शरीर के अंदर प्रवेश करके अपनी लाखों कॉपीज बनाकर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर अटैक करता है. जबकि मंकीपॉक्स का वायरस संक्रमित व्यक्ति के शरीर से निकले पस, लार या अन्य द्रव्य के संपर्क में आने पर होता है.
  • कोरोना का संक्रमण फैलाने वाले वायरस में सिंगल स्ट्रेंड जेनेटिक मटेरियल कोड होता है,जिसे आरएनए (RNA) कहा जाता है. जबकि मंकीपॉक्स फैलाने वाले वायरस में डबल-स्ट्रैंडेड जेनेटिक कोड होता है, जिसका संबंध डीएनए (DNA)से होता है.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों को केवल सुझाव के रूप में लें, एबीपी न्यूज़ इनकी पुष्टि नहीं करता है. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें. 

यह भी पढ़ें: अपने बुढ़ापे में आप स्मार्ट रहेंगे या पेशेंट बनेंगे, उम्र से ज्यादा इस पर निर्भर करती है ये बात

यह भी पढ़ें: मॉनसून में अक्सर गड़बड़ हो जाता है पेट, अपनाएं ये घरेलू उपाय

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index ( BMI )

Calculate The Age Through Age Calculator



Source link

Advertisement