किंग मेकर बनेंगे या मैदान में उतरेंगे आजाद: 2014 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस चौथे नंबर पर रही, पार्टी के वोट में 26% गुलाम के समर्थक

0
31


  • Hindi News
  • National
  • Jammu Kashmir News; Gulam Nabi Azad To Announce New Party On September 4

जम्मू/श्रीनगरएक घंटा पहलेलेखक: मोहित कंधारी

  • कॉपी लिंक

दिल्ली में राजनीति की एक लंबी पारी खेलने के बाद कांग्रेस के पूर्व नेता गुलाम नबी आजाद अब फिर से जम्मू-कश्मीर में अपना सियासी मैदान तलाश रहे हैं। सूत्रों की मानें तो 4 सितंबर को आजाद अपनी नई पार्टी के गठन की घोषणा कर सकते हैं। हालांकि, अभी तक ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आजाद घाटी से चुनावी मैदान में उतरेंगे या ‘किंग मेकर’ की भूमिका में रहेंगे।

2014 के चुनाव में कांग्रेस चौथे नंबर पर रही
घाटी में आजाद के समर्थन में इस्तीफों की झड़ी लग गई। जिन नेताओं ने इस्तीफा दिया है उनका 2014 के चुनाव में कुल वोट शेयर मात्र 4.5% ही रहा है। कांग्रेस ने यहां 86 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ा था, इनमें से केवल 12 पर जीत हासिल की थी और 47 पर जमानत जब्त हो गई थी। नतीजतन, कांग्रेस कश्मीर में चौथे नंबर की पार्टी रही। कांग्रेस पार्टी को 8,67,883 वोट मिले थे। जो कि कुल मतों का 18.01% है।

आजाद ने घाटी में 3 चुनाव लड़े, एक जीता
आजाद ने घाटी में अब तक तीन बार चुनाव लड़ा है, इसमें से केवल एक ही बार जीत दर्ज कर पाए। वो भी तब जब वे मुख्यमंत्री थे।

  • आजाद ने 1977 में पहला चुनाव इंदरवाल विधानसभा क्षेत्र से लड़ा था। इसमें उन्हें महज 959 वोट मिले थे और वह हार गए थे।
  • दूसरी बार, 2005 में मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने अप्रैल 2006 के उपचुनाव में भद्रवाह विधानसभा सीट से जीत दर्ज की थी।
  • तीसरी बार, 2014 के लोकसभा चुनाव में आजाद भाजपा के डॉ. जितेंद्र सिंह से 60,000 से ज्यादा वोटों से हारे थे।

सिफारिशों को नजर अंदाज करने से नाराज आजाद ने दिया इस्तीफा
जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने 26 अगस्त को कांग्रेस छोड़ दी थी। आजाद ने अपने इस्तीफे के तौर पर पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पांच पन्ने की चिट्ठी भेजी थी और उनकी सिफारिशों को नजर अंदाज करने का आरोप लगाया था।

जी-23 ग्रुप का हिस्सा थे गुलाम नबी आजाद
गुलाम नबी आजाद पार्टी से अलग उस जी 23 समूह का भी हिस्सा थे, जो पार्टी में कई बड़े बदलावों की पैरवी करता है। उन तमाम गतिविधियों के बीच इस इस्तीफे ने गुलाम नबी आजाद और उनके कांग्रेस के साथ रिश्तों पर सवाल खड़ा कर दिया है।

खबरें और भी हैं…



Source link