कभी कुश्ती छोड़ने की सोच रही थी साक्षी: कोच और परिवार ने किया मोटिवेट, कॉमनवेल्थ गेम्स में पहली बार जीता सोना

0
22
Advertisement



रोहतक38 मिनट पहले

साक्षी मलिक

कॉमनवेल्थ गेम्स में पहली बार गोल्ड मेडल जीतने वाली हरियाणा के रोहतक की पहलवान साक्षी कभी कुश्ती छोड़ने की सोच रही थी। इसके पीछे का कारण अच्छा प्रदर्शन न होना था, लेकिन कोच और परिवार ने उनकी इस सोच को हावी होने नहीं दिया। उन्होंने साक्षी को ​​​​​​मोटिवेट किया, जिसका रिजल्ट शुक्रवार को इंग्लैंड के बर्मिंघम में दिखा।

साक्षी मलिक ने कॉमनवेल्थ गेम में अपने करियर का पहला गोल्ड मेडल जीता। इससे पहले कॉमनवेल्थ गेम, एशियन गेम और ओलिंपिक में केवल कांस्य और रजत पदक ही जीत पाईं थी। इस बार कॉमनवेल्थ गेम में उनका गोल्ड मेडल जीतने का सपना पूरा हुआ। अब अगला लक्ष्य एशियन गेम में गोल्ड मेडल जीतना है।

कुश्ती छोड़ने तक की बन गई थी स्थिति

साक्षी मलिक ने कहा कि जब उन्होंने कैंप जॉइन किया तो उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं चल रहा था। जिसके कारण उनकी कुश्ती छोड़ने तक की सोच बन गई थी। क्योंकि लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं हो रहा था। इसके बाद कोच व परिवार ने उन्हें मोटिवेट किया और वह लगातार अभ्यास करती रही। इसका परिणाम यह हुआ कि पहले ट्रायल में अच्छा प्रदर्शन किया और फिर गोल्ड मेडल जीत लिया।

पति ने कहा था- भागवान को भी यही कहूंगा कि साक्षी ही कॉमनवेल्थ गेम में जाए

साक्षी मलिक ने कहा कि उनके पति सत्यव्रत कादियान का भी पूरा साथ रहा है। हमेशा ही मोटिवेट करते रहे हैं। कॉमनवेल्थ गेम्स में चयन से पहले कादियान ने कहा था कि अगर भगवान यह पूछेगा कि कौन एक कॉमनवेल्थ में जाएगा तो मैं तुम्हारा नाम लूंगा। वही हुआ और अपने वेट में एक नंबर होते हुए भी सत्यव्रत कादियान नहीं जा पाए।

राष्ट्रीय गान बजते ही हुई भावुक

उन्होंने कहा कि उनका यह पहला गोल्ड मेडल है। सपना था कि वह गोल्ड मेडल जीते और वह अब पूरा हो गया है। इससे पहले लग रहा था कि क्या पता उनके लिए राष्ट्रीय गान बज पाएगा या नहीं या फिर कुश्ती ही छोड़ देंगी। जब शुक्रवार को गोल्ड मेडल मिलने पर राष्ट्रीय गान बजा और वह भावुक हो गईं।

दूसरे राउंड में जीत हासिल की

साक्षी ने कहा कि वे पहले राउंड में 4-0 से पीछे थी, लेकिन उन्हें खुद पर विश्वास था कि वे वापसी करेंगी। पहले भी कई मुकाबले अंतिम कुछ मिनट में जीते हैं। अंतिम तीन मिनट में अटैक करने की सोच के साथ खेल जारी रखा। गेम में भी वही हुआ और अंतिम तीन मिनट में जाते ही अटैक किया और जीत हासिल की।



Source link

Advertisement