कई राज्यों में बारिश-बाढ़ का दौर जारी: दार्जिलिंग में बालासन नदी में फंसे 11 छात्रों का रेस्क्यू, जम्मू-कश्मीर में बादल फटने से बाढ़ के हालात

0
18
Advertisement


  • Hindi News
  • National
  • Rescue Of 11 Students Trapped In Balasan River In Darjeeling, Flood Situation In Jammu And Kashmir Due To Cloudburst

11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जुलाई बीत चुका है और देश के कई राज्यों में अभी भी तेज बारिश का दौर जारी है। जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले के सुरनकोट शहर में रविवार रात भारी बारिश और बादल फटने से अचानक बाढ़ आ गई। पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग के धुधिया में रविवार रात भारी बारिश के चलते बालासन नदी में पानी बढ़ने से 11 कॉलेज स्टूडेंट फंस गए।

उधर, चंडीगढ़ के गवर्नमेंट मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल, सेक्टर 16 के गायने वार्ड की गैलरी में तेज बारिश के बाद पानी भर गया। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में बादल फटा। यहां घाटी का पुल बह गया। UP, बिहार, झारखंड, हिमाचल में भी कई जगह भारी बारिश हुई। हिमाचल प्रदेश के कुल्लू के बहांग में भारी बारिश के बाद ब्यास नदी का जल स्तर बढ़ गया है।

इधर, मौसम विभाग ने झारखंड में 2 अगस्त तक भारी बारिश होने की संभावना जताई है। अगले 5 दिनों तक सिक्किम, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, त्रिपुरा और अरुणाचल प्रदेश में भारी बारिश का अनुमान है। इसके अलावा पंजाब, हरियाणा,जम्मू-कश्मीर,चंडीगढ़, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में बारिश का अलर्ट है।

देशभर में रविवार को हुई बारिश का हाल आप इस मैच के जरिए समझ सकते हैं…

मध्य प्रदेश- 2 अगस्त से फिर सक्रिय होगा सिस्टम राजधानी भोपाल में रविवार को भी हल्के बादल छाए रहे, धूप भी निकली। दिन का तापमान 32.3 डिग्री दर्ज किया गया। इसमें 0.3 डिग्री का इजाफा हुआ। रात का तापमान 23.6 डिग्री रहा। इसमें 0.8 डिग्री की गिरावट हुई। मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार, यानी 2 अगस्त से अरब सागर में एक नया सिस्टम तैयार हो रहा है। इसका असर अगस्त के पहले सप्ताह से दिखने की संभावना है। शहर में जुलाई में 34.19 इंच बारिश हुई। यह 15 साल में जुलाई के महीने की सबसे ज्यादा बारिश है।

राजस्थान: 10 शहर खतरे के निशान पर
रविवार को सांगरिया हनुमानगढ़ में 52.5 मिमी बारिश हुई। जयपुर मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश में 3 अगस्त से एक बार फिर तेज बारिश की संभावना जताई गई है। 4 अगस्त से कोटा संभाग में भारी बारिश का पूर्वानुमान है। राज्य में भले ही मानसून 8 दिन की लेट से पहुंचा हो, लेकिन बिना बारिश ने 66 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। राज्य में पिछले महीने 10.6 इंच बारिश रिकॉर्ड की गई, जो 1956 के बाद सबसे ज्यादा है। 1956 में 12.1 इंच बारिश रिकॉर्ड की गई थी।

सूखे से जूझने वाले राजस्थान को अब बाढ़ के लिए हर साल तैयार रहना होगा। हालात इतने बिगड़ सकते हैं कि सेना की मदद लेनी पड़े। श्रीगंगानगर, कोटा और जोधपुर में जो हालात आपने पिछले दिनों देखे, ऐसा कई शहरों में हो सकता है। इसकी वजह है पिछले 30 सालों में तेजी से बदलता बारिश का पैटर्न।

आपने भी नोटिस किया होगा कि पिछले कुछ सालों में बूंदाबांदी की बजाय लगातार 3-4 घंटे बारिश बढ़ी है। मौसम वैज्ञानिकों इसे आने वाले सालों में बाढ़ के बढ़ते खतरे का इशारा मान रहे हैं। यही पैटर्न बरकरार रहा तो आने वाले 10 सालों में प्रदेश के 10 से ज्यादा शहर बाढ़ की जद में होंगे। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

UP-बिहार में तीन दिनों में तेज बारिश का अलर्ट

UP के कई जिलों में रविवार को तेज बारिश हुई। हाथरस में रविवार को 43 मिमी बारिश हुई। उधर, बिहार के सीवान में बारिश के बाद रेलवे स्टेशन पर पानी भर गया जिसके कारण यात्रियों का मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

मौसम विभाग के UP के 54 जिलों में आज भी तेज बारिश की संभावना जताई गई है। तो वहीं, बिहार के मुजफ्फरपुर समेत राज्य के 19 जिलों में मूसलाधार अगले 24 घंटे के भीतर भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

अन्य राज्यों में बारिश का हाल

  • जम्मू-कश्मीर के पुंछ के सुरनकोट क्षेत्र में रविवार रात बादल फटने से बाढ़ के हालात बन गए हैं। इलाके में कई लोगों के फंसे होने की सूचना मिलने के बाद सेना, पुलिस और जिला प्रशासन ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया।
  • हिमाचल प्रदेश के कुल्लू के मणिकर्ण घाटी में रविवार को भारी बारिश हुई। जिसके बाद इलाके में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है।

अब मैप के जरिए समझिए की अगले तीन दिन तक देश में मानसून की स्थिति क्या रहेगी…

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement