अमेरिका में बच्चे बन रहे मंकीपॉक्स का शिकार: 11 स्टेट्स में 31 बच्चे संक्रमित; नस्लीय भेदभाव के चलते जरूरतमंदों को नहीं मिल रही वैक्सीन

0
23


वॉशिंगटनएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

मंकीपॉक्स केवल एडल्ट्स ही नहीं, बल्कि बच्चों को भी बुरी तरह प्रभावित कर रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका के 11 स्टेट्स में अब तक 31 बच्चों में इस वायरस की पुष्टि हुई है। हेल्थ एजेंसी सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) की मानें तो सभी 50 स्टेट्स में मंकीपॉक्स के मरीज सामने आए हैं। इनमें न्यूयॉर्क और कैलिफोर्निया में सबसे ज्यादा मरीज मिले हैं।

टेक्सास में 9 बच्चे बीमार
टेक्सास डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट हेल्थ सर्विस के डेटा के अनुसार, यहां 9 बच्चे मंकीपॉक्स के शिकार बने हैं। उधर, संक्रमण से एक वयस्क की मौत हो गई है। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि यह बीमारी उन लोगों को अपनी चपेट में ले रही है, जिनका इम्यून सिस्टम काफी कमजोर है। उन्होंने लोगों से लक्षण दिखने पर तुरंत इलाज कराने की गुजारिश की है।

वैक्सीन को लेकर हो रहा नस्लीय भेदभाव
मंकीपॉक्स आउटब्रेक की शुरुआत में ही राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इसकी वैक्सीन को हर नागरिक तक पहुंचाने का वादा किया था। लेकिन, अधिकारियों का कहना है कि टीके उन्हीं लोगों को नहीं मिल रहे हैं जिन्हें इनकी सबसे ज्यादा जरूरत है। CDC के मुताबिक, अश्वेत लोगों को केवल 10% डोज ही मिल पाई हैं, जबकि वे अमेरिकी आबादी का एक तिहाई हिस्सा हैं।

इससे पहले ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में बताया गया था कि मंकीपॉक्स वैक्सीन के नाम पर अश्वेत और हिस्पैनिक लोगों के साथ भेदभाव किया जा रहा है। वैक्सीनेशन प्रोग्राम का लक्ष्य सभी लोगों को बीमारी के खिलाफ टीके लगाना है, लेकिन ज्यादातर वैक्सीनेशन सेंटर्स श्वेत और अमीरों के इलाकों में बनाए गए हैं।

दुनिया में मंकीपॉक्स के मामले 54 हजार के पार
Monkeypoxmeter.com के डेटा के अनुसार, दुनिया में मंकीपॉक्स के मामलों की कुल संख्या 54,630 हो गई है। यह बीमारी अब तक 103 देशों में फैल चुकी है। इससे ग्रस्त टॉप 10 देशों में ब्रिटेन, स्पेन, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, पुर्तगाल, कनाडा, नीदरलैंड्स, इटली और ब्राजील हैं।

अमेरिका में मंकीपॉक्स के सबसे ज्यादा 19,355 मरीजों की पुष्टि हुई है। वहीं, भारत में मंकीपॉक्स के 10 मरीज सामने आए हैं, जिनमें से एक की मौत हुई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया है।

खबरें और भी हैं…



Source link